...ब्‍लॉगर पंच बताऍं, विजेता किसे बनाऍं ?

SHARE:

जी हॉं, मुझे मालूम है कि ब्‍लॉग जगत के इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ। पर चूँकि ऐसा हो गया है और बकौल भगवती चरण वर्मा (चित्रलेखा) ' आदमी प...

जी हॉं, मुझे मालूम है कि ब्‍लॉग जगत के इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ। पर चूँकि ऐसा हो गया है और बकौल भगवती चरण वर्मा (चित्रलेखा) 'आदमी परिस्थितियों का दास है', इसलिए मुझे लगता है कि गोलमोल बातें करके किसी को बेवकूफ बनाने से अच्‍छा है कि गलती को स्‍वीकार कर सही रास्‍ता निकाला जाए, क्‍योंकि झूठ और गलती छिपाए नहीं छिपती, भले ही उसे करने वाला व्‍यक्ति कितना भी शातिर क्‍यों न हो। 

तो अब आते हैं मुद्दे की बात पर। दरअसल हुआ यूँ‍ कि 27 नवम्‍बर को निर्धारित मेरी साली की शादी के मद्देनजर मेरी व्‍यस्‍तता पिछले कुछ दिनों से काफी बढ़ी हुई है। इसी क्रम में अक्‍सर मैं दो तीन हफ्तों की पहेलियॉं और उनके उत्‍तर के बारे में समुचित जानकारी एक साथ ड्राफ्ट में सेव कर देता हूँ। इसी क्रम में इस हफ्ते पूछी गयी चित्र पहेली (मेरे हिसाब से बरगद, जिसे वटवृक्ष भी कहते हैं) के बारे में जानकारी मैंने ड्राफ्ट में सेव कर दी। लेकिन जब पहेली पूछने के लिए चित्र अपलोड करने बैठा, तो नेट कनेक्‍शन धोखा दे गया। संयोग से ऐसा दो बार और हुआ। 

चूँकि पहेली का प्रकाशन प्रत्‍येक सोमवार को प्रात: 11 बजे होता है, इसलिए शनिवार तक पहेली के लिए चित्र शिड्यूल्‍ड न होने के बाद मैंने सोचा कि सोमवार को सुबह आकर ये काम कर दूँगा। पर अचानक आई व्‍यस्‍तता के कारण जब मुझे लगने लगा कि मैं 11 बजे तक आफिस नहीं पहुँच पाऊँगा, तो मैंने अपने एक कुलीग को अपना यूजर नेम और पासवर्ड बताकर उनसे पहेली प्रकाशित करने का आग्रह कर दिया। 

कुलीग ने मेरी लाज रखी और अपनी समझ से बरगद के बोनसाई के चित्र को पहेली हेतु प्रकाशित कर दिया। पहेली प्रकाशित होने पर मैंने यह देख कर सुकून की सांस ली कि पहेली प्रकाशित हो गयी है। लेकिन जैसे ही लोगों के जवाब आने शुरू हुए, मेरे कान खड़े हो गये। कारण तीन लोगों ने जब उत्‍तर में Schefflera का नाम लिखा, तो मेरा माथा ठनका। मैंने नेट पर चेक किया, तो Schefflera के पौधे के पत्‍तों को पहेली में प्रकाशित चित्र से मिलता जुलता पाया। चूँकि प्रकाशित पहेली में पेड़ का तना बरगद जैसा ही लग रहा था, इसलिए मैंने उसके पत्‍तों पर ध्‍यान नहीं दिया था। 

लेकिन अब अधिकतर लोगों द्वारा पहेली में पूछे गये चित्र को Schefflera बताने के कारण मैं काफी कन्‍फ्यूज हो गया हूँ। अपने कुलीग महोदय को दोष देने का कोई मतलब नहीं है, इस समस्‍या से रास्‍ता मुझे ही निकालना है। हॉं, चूँकि मैं थोड़ा कन्‍फ्यूज हो रहा हूँ और चाहता हूँ कि किसी के साथ अन्‍याय न हो, इसलिए आप लोगों से राय मांग रहा हूँ। फिलहाल मेरे पास जो ऑप्‍शन हैं,वे इस प्रकार हैं- यदि इस पौधे को वास्‍तव में Schefflera माना जाए, तो विजेता अन्‍तर सोहिल जी हैं, इसलिए वे बधाई के पात्र हैं। सोहिल जी के अलावा सीमा गुप्‍ता, दर्शन लाल बवेजा एवं पी एन सुब्रामण्‍यम जी ने भी उत्‍तर में Schefflera बताया है, इसलिए वे भी इस नजरिए से सही उत्‍तर देने के कारण बधाई के पात्र हैं।  

लेकिन यदि चित्र को बरगद अर्थात banyan माना जाए, तो भी प्रथम विजेता तो अन्‍तर सोहिल जी ही हैं, लेकिन अन्‍य सही जवाब देने वालों में दूसरा नाम सिर्फ अनुष्‍का श्रीवास्‍तव का रह जाता है।

इस‍ीलिए मैं चित्र पहेली-99 का उत्‍तर घोषित करने में संकोच का अनुभव कर रहा हूँ। मैं चाहता हूँ कि पहेली के सही उत्‍तर ही प्रकाशित हों, इसलिए कृपया अपनी कीमती राय से नवाजने की कृपा करें। आपके इस सहयोग के लिएमैं आप सबका हृदय से आभारी होऊँगा।

नोट: पहेली में दिया गया चित्र यहॉं से लिया गया है, जबकि बरगद के बारे में विस्‍तृत जानकारी यहॉं पर तथा Schefflera के बारे में जानकारी व चित्र यहॉं पर उपलब्‍ध है।

COMMENTS

BLOGGER: 48
  1. अब यह बरगद है या क्या है मुझे पता नहीं -सारी !
    अच्छा हुआ आपने स्थिति यूं स्पष्ट कर दी -मैं इस मत का हूँ कि अगर पहली नजर में पाठक पहेली न बूझ पायें तो उन्हें खुद ही अलग हो जाना चाहिए ,अंतर्जाल पर रगड़ घिस्सा नहीं करना चाहिये ...यह लोगों के जनरल नालेज का टेस्ट है .
    यह पहेली बूझने की स्पिरिट के विरुद्ध है कि कहीं से नक़ल मारी जाय और सरासर बेईमानी भी है...और उससे भी जघन्य बात यह है कि पहेली पूछने वाला खुद ही उससे अनजान हो ...मैं अपना विरोध व्यक्त करता हूँ !
    टिप्पणियों की चिंता मत करिए ..आपका कम क्वालिटी का होगा तो वे झख मारकर आयेगीं और न भी आयें तो यह मादा पैदा करिए कि हू केयर्स !

    जवाब देंहटाएं
  2. सर जी टेंशन मत लो........
    पहले स्थान पर तो अंतर सोहिल जी ही हैं उन्हे आप विजेता घोषित किजिये साथ ही जिन लोगों ने उत्तर बरगद और Schefflera बताया है उन्हें भी सही जवाब बतानें वालों की श्रेणी में रखिये. कभी कभी ऐसा हो जाता है कि एक प्रश्न के दो उत्तर रहते है. http://t2.gstatic.com/images?q=tbn:ANd9GcRDMaZ2NuFunZeFmorlPtWToBznPiya6-pOoOjrZseFxnHMJf4&t=1&usg=__eEelWuC5SUR72b9JBWu7ygU2iG4= यहाँ जायंगे तो Schefflera का तना भी बरगद के तनें जैसा ही दिखाई देगा.
    भारत प्रश्न मंच पर भी अटाला मस्जिद वाले प्रश्न में यही समस्या उत्पन्न हुई थी.
    मै तो यही सुझाव दूँगा.
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  3. बेनामी11/10/2010 12:27 pm

    Bade bade shahron ki chhoti si ghatna. Kaheen prayojit to nahee?

    जवाब देंहटाएं
  4. पहेली को रद्द करके सभी जवाब देने वालों को साली की शादी में निमंत्रित कर डालिए ।

    (वैसे यह सलाह देने के कारण निमंन्त्रण पर हक तो हमारा भी बनता है ।)

    जवाब देंहटाएं
  5. विवेक भाई, आप अभी से आमंत्रित हैं। अपना पता बताएँ, जिससे कार्ड पोस्‍ट कर सकूँ। लेकिन साथ ही शर्त यह है कि न आने का कोई बहाना नहीं चलेगा। वैसे सुझाव आपका भी अच्‍छा है।

    जवाब देंहटाएं
  6. @ आदरणीय अरविन्द मिश्रा जी

    एक पाठक अन्तर्जाल पर पूछी गई पहेली के विषय में जानकारी नहीं होने पर स्वाभाविक तौर पर अन्तर्जाल पर ही ढूंढेगा। और वही रगड घिस्सा करेगा जो उसके बारे में जानने का इच्छुक है ना कि किसी पुरस्कार को पाने के लिये।
    पहेली बूझने के लिये अन्तरजाल पर रगड घिस्सा करने से हमें उस पहेली के विषय के अलावा चार नई चीजों/बातों की जानकारी भी मिल जाती है।

    प्रणाम स्वीकार करें

    जवाब देंहटाएं
  7. अंतर सोहिल जी ,
    पहेली बूझना एक प्राचीन खेल है और उसमें हिंट तो दिया जाता है मगर नक़ल की छूट नहीं होती है -यह एक तरह का सामने वाले के ज्ञान का टेस्ट करने का टाईम पास है ...अगर अंतर्जाल पर ही आपने देख कर बता दिया तो आपके सामान्य ज्ञान की परख कैसे होगी ..फिर यह कैसे पता चलेगा की ब्लॉग जगत में लोगों के सामान्य ज्ञान का स्तर क्या है ?
    हाँ वर्तमान प्रवृत्ति से तो केवल यही आँका जा सकता है की कौन अंतर्जाल पर सही उत्तर ढूँढने में ज्यादा निष्णात है -फिर तो इसका श्रेय गूगल आदि सर्च इंजिन या विकिपीडिया को दिया जाना चाहिए ...हाँ अपने उत्तर के पुष्टि में आवश्यकतानुरूप वेब लिंक दिए जानें में कोई बुराई नहीं है .
    पहेली का उत्तर अगर कोई अपने पूर्व अर्जित ज्ञान से दे देता है तभी उसे सामान्य ज्ञान की विज्ञता का श्रेय मिलना चाहिए ..
    अब समय आ गया है कि हम स्वस्थ परम्पराओं का पालन करें! ब्लागिंग के नाम पर एक सर्वथा अनुचित और अमान्य अतार्किक पद्धति को और बढ़ावा न दें !
    बहरहाल देखिये और लोगों का मत क्या है ,मैंने अपना मत स्पष्ट कर दिया है !

    जवाब देंहटाएं
  8. antar sohil ji ko vijeta ghoshit kar dena uchit hoga.

    जवाब देंहटाएं
  9. antar sohil ji ko vijeta ghoshit kar dena uchit hoga.

    जवाब देंहटाएं
  10. @ श्री अरविन्द मिश्रा जी

    अबकी बार आपकी बात समझ आयी और अच्छी भी लगी। सहमति दर्ज करें।

    प्रणाम

    जवाब देंहटाएं
  11. अंतर सोहिल जी ,
    मुझे भी अब जाकर सांस में सांस आयी ...मगर और लोगों के विचार अब भी प्रतीक्षित हैं .
    आशीर्वाद .....(प्रणाम का जवाब ! )

    जवाब देंहटाएं
  12. @ आदरणीय जाकिर जी

    पहेली का विजेता कौन है या कौन नहीं इस पचडे में मत पडिये। मुख्य ध्येय है जानकारी बाँटना और इस कार्य के लिये मैं तो आपका शुक्रगुजार हूँ जी।
    सही उत्तर किसे माना जाये इस प्रश्न पर मैं तो यही कहूंगा कि फूल-पत्तों में से मूल यानि जड ही झांकता है। तने के आकार बेशक बरगद के जैसा है लेकिन पत्तियों के आधार पर ही सही उत्तर चुना जाये। तने का आकार कुछ हद तक बदला जा सकता है लेकिन पत्तों का नहीं।

    प्रणाम

    जवाब देंहटाएं
  13. जाकिर भाई ,
    अंतर सोहिल सही फरमा रहे हैं -चित्र बरगद का तो नहीं लगता - चतुष्पदी पत्तियाँ तो देखिये !

    जवाब देंहटाएं
  14. @ श्री अरविंद जी
    सांस में सांस आयी….………यह आरोप क्यों लगा रहे हैं जी मुझ पर :)

    और आशिर्वाद का तो मैं हकदार हूँ।

    जवाब देंहटाएं
  15. सोहिल जी
    सांस ही तो कहा सास नहीं ..क्यों घबरा गए आप :)

    जवाब देंहटाएं
  16. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  17. सोहिल जी और अरविंद जी, आपके सुझाव सारगर्भित और समीचीन है। इसे पढकर मेरे मन का बोझ कम हो गया और इस पोस्‍ट को प्रकाशित करने का उद्देश्‍य भी सार्थक हो गया। आभार।

    जवाब देंहटाएं
  18. अरविंद जी दुरुस्त फ़रमाया आपने ...सहमत हूँ आपके मत से,High Regards

    अंतर सोहिल जी का मधुर संवाद भी सही रहा :))चलिए मैं तो आपको बधाई दे ही देती हूँ :)

    रजनीश जी ...पेपर सेट्टिंग कोई इतना भी आसान नही समझ चुके होंगे अब तक तो आप भी :))मगर आपको जिम्मेदारी के प्रती निष्ठा रखने के फुल मार्क्स तो मिलने ही चाहिए !


    Sabhee Pratibhagiyon ko bhee bahut badhaii..

    जवाब देंहटाएं
  19. सेहर जी, मुझे फुल मार्क्‍स देने का शुक्रिया1

    जवाब देंहटाएं
  20. भाई मेरी समझ से तो इस प्रतियोगिता को किन्हीं तकनीकी कारणों से रद्द कर देना चाहिए ;;
    ...(ज़किर भाई मैंने इसमें भाग नहीं लिया था ... वरना सही जवाब आपको मिल जाता...:)

    जवाब देंहटाएं
  21. Schefflera aur bargad dono jawab sohil jee nae hee diye kya? agr haan to kya do jawab diye ja sakte hain? agr haan to yh unka haq hai. waise jawaab ek he dena chaiye.

    जवाब देंहटाएं
  22. मासूम जी, साहिल जी ने दो अलग अलग बार अलग जवाब दिये हैं, जिनमें Schefflera और बरगद दोनों शामिल हैं।

    जवाब देंहटाएं
  23. चित्र देख कर मुझे उत्तर नहीं आया था
    परन्तु पहेली बूझने की खुरक ने इस पहेली पर बहुत जोर लगवा दिया
    पत्ती की बनावट कम्पाउंड लीफ प्रकार की है इसी को आधार बना कर खोज शुरू की
    यहाँ से पत्ती की टाईप खोजी गयी
    और फिर कम्पाउंड लीफ प्रकार के ट्रीज की खोज की गई
    गलत ज़वाब न दे दिया जाय इसलिए तीन बार झखमार कर पहुंचे गंतव्य पर जी जाकिर जी
    विज्ञान पहेली का ज़वाब देना मजाक नहीं है कि अन्य की तरह कभी मकबरा कभी हवेली या फिर स्मारक पूछ लिया वो कई बार देखे हुए भी आ जाते है इस लिए वाहन मिश्र सर जी का सुझाव चल जाता है यहाँ उत्तर खोजना ही पडेगा वरना कोई सही जवाब नहीं आएगा
    यदि डा. मिश्र जी की सलाह माने कि चित्र को देखे यदि नहीं पता तो बैठ जाए
    परन्तु पहेली जिज्ञासा जगाती है खोजबीन की जी
    गर्व और ठोकबजा कर गलती मानते हुए इस को Schefflera डिक्लेयर करियेगा जी
    बाद में पता चला की Schefflera बहुत लोकप्रिय माने तो तुलसी की तरह से घर घर बोनसाई पौधो का सरताज है
    धन्यवाद सहित
    दर्शन बवेजा

    जवाब देंहटाएं
  24. मासूम जी, साहिल जी ने दो अलग अलग बार अलग जवाब दिये हैं, जिनमें Schefflera और बरगद दोनों शामिल हैं।
    mujhe is paheli ka qanoon nahin maloom lekin do jawab yh batate hain, ki confuse thae sahil bhai. aise main sahee jawaab nahin hua.
    is paheli ke rules ke anusaar yade sahee hai, to yaqeenan sahil jee ko inam diya jae.

    जवाब देंहटाएं
  25. बेनामी11/10/2010 6:05 pm

    बहुत अच्‍छा

    जवाब देंहटाएं
  26. अर्द्धनारीश्वर टाइप मामला है। इस बार हमारी भी जय-जय तुम्हारी भी जय-जय वाला फार्मूला अपनाकर विजेताद्वय का स्वागत कीजिए।

    जवाब देंहटाएं
  27. विजय लहाडिया11/10/2010 6:07 pm

    पहेली बहुत अच्‍छी है मजा आ गया अभी परसों ही ऐसी ही पहेली मैं बूझ चुका हूं। धन्‍यवाद देता हूं

    जवाब देंहटाएं
  28. विजय लहाडिया11/10/2010 6:10 pm

    भई इस पहेली के मामले में मैं अपने को तो लाल बुझक्‍कड समझता हूं, और हूं भी, इसमें किसी को कोई शक नहीं होना चाहिये

    जवाब देंहटाएं
  29. गजब हमारे श्री दर्शन सर ने तो पूरी जड़ को ही खोज लिया बोनसाई का जहाँ पर वास्तविक चित्र है उसे खोज निकाला, इस आधार पर ये वृक्ष
    Schefflera का ही है...........

    जवाब देंहटाएं
  30. दर्शन जी ,आप को स्वयं या जिस किसी को स्वयं के ज्ञान की पिपासा दूर करनी है जो बहुत अच्छी बात है तो करते रहिये न जीवन भर ..मेरे जैसा ही अभिशप्त ..क्यों कर यह दावा हो कि हम बड़े बूझनहार हैं लाल बुझक्कड़ हैं .....
    चलिए दो श्रेणी बनाते हैं -एक -जिन्हें उत्तर पहले से ही पता है और एक जिन्होंने इसे खोज खाज कर प्रस्तुत किया है !
    इस पहेली को और कोई माने या न माने मैं निरस्त मानता हूँ ....अन्यथा फजीहत बढ़ती जायेगी !

    जवाब देंहटाएं
  31. अगर किसी को एतराज न हो तो मैं बिना जवाब दिए विजेता बनने को तैयार हूं जाकिर भाई। आप कन्‍फ्यूज मत हों।

    जवाब देंहटाएं
  32. ब्लॉगर Arvind Mishra ji ki baat padhkar aashcharya hua. kaisi stupid baat kar rahe hain.
    sabse pahli baat to ye hain ki inhone kitni paheliyon men jeet haasil ki hai ?
    kya jaante hain paheliyon ke baare men ?
    aap sochte hain ki aap duniya kee kisi bhi field kee cheej poochhenge aur log bata denge ?
    ajeeb bewkoofi kee baat hai.
    mai dekh rahi hun ki yahan 100 ke kareeb paheli poochhi ja chuki hain. mera challenge hai ki ek bhi winner aisa nahi hoga jisne google ki help ne lee ho. tab to aapko apni saare paheliyan cancle kar deni chaahiye aur pichhli saari post bhi delete kar deni chaahiye.

    aapko general knowledge ka matlab hi nahi maalum. yahan sabke paas ek samaan avsar hote hain. aap saraahana karne kee bajaay aisi baaten kah rahe hain. aap khud participate karen to aate-daal ka bhaav pata chal jaayega. game field ke baahar comment karna aasaan hota hai.

    जवाब देंहटाएं
  33. बेहतर यही है की इस पहेली को निरस्त कर दिया जाए.

    जवाब देंहटाएं
  34. आदरणीय जाकिर जी
    आप यदि पहेली निरस्त करते हैं तो इसक सीधा अर्थ होगा कि कई लोगों की घंटों की मेहनत को बेकार कर देना. क्योकि एक पहेली को बुझने में कितना समय लग जाता है उसे मै समझता हूँ. आपकी की हर पहेली किसी विषयवस्तु का ज्ञानवर्धन कराने एवं प्रतिभागी को प्रोत्साहित करने हेतु होती है . भले ही उसे गूगल से खोजा जाये या फिर किताबों से. ऐसे मे इसे निरस्त करना ठीक नहीं होगा. आप बरगद और Schefflera की संक्षिप्त जानकारी देते हुए दोनों उत्तर को स्वीकृत कीजिए और विजेताओं की सूची जारी कर दें.
    पहेली को निरस्त करना उचित नहीं होगा

    जवाब देंहटाएं
  35. क्षद्मनामी अदिति ,
    आपको तस्लीम में पहेलियों का इतिहास नहीं पता है ,ये मैंने शुरू की थी और ५० के ऊपर पहेलियाँ मैंने बुझायी .....इसके गिरते स्तर को देखकर और इनमें भागीदारी की मौलिक प्रतिभा के ह्रास पर मुझे इसमें अरुचि होती गयी .....
    जब हर बार गूगल में सर्च कर ही उत्तर बताना है तो फिर इनका मूल मकसद ही ख़त्म हुआ ....
    अगर अपने स्टुपिड,बेवकूफी भरे विशेषण न भी लगाए होते तब भी अपनी बात कह सकती थीं ...बहरहाल किसी किसी क्षद्म ब्लॉगर से इस मुद्दे पर क्या बात चीत करना -यही क्या कम है की टिप्पणी डिलीट नहीं की गयी !

    जवाब देंहटाएं
  36. जब पहेली में चित्र Schefflera का लगा था तो वही जवाब देने वाला विजेता हुआ। आपके शिड्यूल्ड उत्तर के अलग होने से उसका कोई संबंध नहीं बनता। कन्फ़्यूजन बढ़ाने का कोई औचित्य नहीं है। हिंट से कोई मिसलीड नहीं हुआ तो यह और अच्छी बात है। पुरस्कार का हक उन्हें है जिन्होंने उत्तर Schefflera बताया था।

    जवाब देंहटाएं
  37. यह बरगद नहीं है ! तना बरगद जैसा है लेकिन पत्ते अंतर बता देते है ! अतः Schefflera ही सही उत्तर माना जाना चाहिए !

    जवाब देंहटाएं
  38. bhai jo chitra hai uske hisaab se jo sahi hai usiko vijeta mana jaye ... agar ye Schefflera hai to wahi sahi uttar hai ...
    par ek baar confirm kar lein ki yah Schefflera hi hai ya koi aur cheez hai kyunki is tarah ki patti kai tarah ke ped-poudhe mein hoti hai ... isliye jahan se yah chitra liya gaya hai wahan par dekh lein ki yah kya hai ...

    जवाब देंहटाएं
  39. Schefflera सही जवाब होना चाहिए.इसके 'बरगद स्टाइल 'के बोनसाई होते हैं.
    और जिन्होंने यह जवाब बताया वे विजेता होने चाहिए .
    पहेली निरस्त नहीं होनी चाहिए.पहेली निरस्त करना मतलब उन प्रतिभागियों को जिन्होंने समय लगा कर सही जवाब दिया हतोत्साहित करना है.
    -----------
    इस लिंक पर विस्तार से देख लिजीये..
    http://www.bonsaihunk.us/info/ScheffleraBonsai.html
    --The easy formation of aerial roots on Scheffleras allows them to make great banyan style trees.
    ---------
    ज़ाकिर जी आप ने इमानदारी से अपनी गलती स्वीकारी है यह आप की तारीफ़ है और बड़ी बात है.
    --------
    इसके अलावा बरगद वाली जो पोस्ट तैयार की थी वह कभी भी एक सामान्य पोस्ट बना कर लगा सकते हैं.
    ----

    जवाब देंहटाएं
  40. एक कमेटी बना दो डॉ अरविन्द मिश्र और मैं मेंबर( अवैतनिक) बन जायेंगे मगर मीटिंगों में टीए डीए दे देना ! कार्यकाल ३ माह का रख दो ...विद्वान् लोगों को इतना समय तो चाहिए ही ! जबतक खुद अंतर सोहिल इसे भूल चुके होंगे और आपके लिए कोई झमेला भी नहीं होगा !

    जवाब देंहटाएं
  41. @दर्शन जी, आपने पूरी पोस्‍ट नहीं पढ़ी। समय पर ऑफिस न पहुंच पाने के कारण यह चित्र मैंने अपने कुलीग से लगवाई थी। तभी यह झमेला हुआ।

    जवाब देंहटाएं
  42. @अदिति चौहान जी, कृपा कर शिष्‍ट शब्‍दावली का प्रयोग करें, अन्‍यथा ऐसे कमेंट डिलीट करना ही श्रेयस्‍कर माना जाएगा।

    जवाब देंहटाएं
  43. जाकिर जी,
    एक पहेलीकार होने के नाते मैं आपको एकाध सही बात बता रहा हूं।
    पहली तो ये कि जिस चीज का आपको भी पक्का नहीं पता है, उसमें हाथ ना डालें। लेकिन आपकी गलती भी तो नहीं है। उस बरगद के बोनसाई वाली ईस्वामी की पोस्ट पर यह बरगद ही लिखा है। तो सीधी सी बात है कि छापते या सेव करते समय आपके दिमाग में बरगद के सिवाय दूसरा नाम आया भी नहीं होगा।
    रही बात विजेता की, तो विजेता अन्तर सोहिल ही रहेंगे। इधर से ले लो या उधर से। इसलिये उत्तर वाली पोस्ट में माफी मांगते हुए दोनों उत्तरों को ही सही घोषित कर दीजिये। आपने जहां से भी उठाया था बरगद ही उठाया था। अगर बाद में यह बदल गया तो आपकी क्या गलती है।

    जवाब देंहटाएं
  44. बेनामी11/11/2010 11:58 am

    Paheli ko radd karne ki salah vo hi de raha hai, jisne isme bhag nahi liya. isko bhi dhyan men rakhha jaye.

    जवाब देंहटाएं
  45. इम्मान्दारी से कह रहे हैं, हमने तो भैय्या सर्च ही किया था.

    जवाब देंहटाएं
  46. मैंने पूरी पोस्‍ट पढ़ी।
    ओह यह चित्र आपने अपने कुलीग से लगवाया था तभी तो मै कहूँ आप तो समझदार है फिर ये गलती हुई कैसे
    चलो जी गलतियाँ तो होती ही होने के लिए है जी
    निपटा मामला

    जवाब देंहटाएं
  47. आपकी पोस्‍ट के चित्र के साथ स्‍पष्‍ट नहीं हो रहा है, लेकिन ''Schefflera के बारे में जानकारी व चित्र यहॉं पर उपलब्‍ध है।'' इस वाक्‍य के लिंक देखने पर लगा कि यह 'सप्‍तपर्णी' कहे जाने वाले पेड़ का चित्र है.

    जवाब देंहटाएं
वैज्ञानिक चेतना को समर्पित इस यज्ञ में आपकी आहुति (टिप्पणी) के लिए अग्रिम धन्यवाद। आशा है आपका यह स्नेहभाव सदैव बना रहेगा।

नाम

अंतरिक्ष युद्ध,1,अंतर्राष्‍ट्रीय ब्‍लॉगर सम्‍मेलन,1,अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी ब्लॉगर सम्मेलन-2012,1,अतिथि लेखक,2,अन्‍तर्राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन,1,आजीवन सदस्यता विजेता,1,आटिज्‍म,1,आदिम जनजाति,1,इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी,1,इग्‍नू,1,इच्छा मृत्यु,1,इलेक्ट्रानिकी आपके लिए,1,इलैक्ट्रिक करेंट,1,ईको फ्रैंडली पटाखे,1,एंटी वेनम,2,एक्सोलोटल लार्वा,1,एड्स अनुदान,1,एड्स का खेल,1,एन सी एस टी सी,1,कवक,1,किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज,1,कृत्रिम मांस,1,कृत्रिम वर्षा,1,कैलाश वाजपेयी,1,कोबरा,1,कौमार्य की चाहत,1,क्‍लाउड सीडिंग,1,क्षेत्रीय भाषाओं में विज्ञान कथा लेखन,9,खगोल विज्ञान,2,खाद्य पदार्थों की तासीर,1,खाप पंचायत,1,गुफा मानव,1,ग्रीन हाउस गैस,1,चित्र पहेली,201,चीतल,1,चोलानाईकल,1,जन भागीदारी,4,जनसंख्‍या और खाद्यान्‍न समस्‍या,1,जहाँ डॉक्टर न हो,1,जादुई गणित,1,जितेन्‍द्र चौधरी जीतू,1,जी0 एम0 फ़सलें,1,जीवन की खोज,1,जेनेटिक फसलों के दुष्‍प्रभाव,1,जॉय एडम्सन,1,ज्योतिर्विज्ञान,1,ज्योतिष,1,ज्योतिष और विज्ञान,1,ठण्‍ड का आनंद,1,डॉ0 मनोज पटैरिया,1,तस्‍लीम विज्ञान गौरव सम्‍मान,1,द लिविंग फ्लेम,1,दकियानूसी सोच,1,दि इंटरप्रिटेशन ऑफ ड्रीम्स,1,दिल और दिमाग,1,दिव्य शक्ति,1,दुआ-तावीज,2,दैनिक जागरण,1,धुम्रपान निषेध,1,नई पहल,1,नारायण बारेठ,1,नारीवाद,3,निस्‍केयर,1,पटाखों से जलने पर क्‍या करें,1,पर्यावरण और हम,8,पीपुल्‍स समाचार,1,पुनर्जन्म,1,पृथ्‍वी दिवस,1,प्‍यार और मस्तिष्‍क,1,प्रकृति और हम,12,प्रदूषण,1,प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड,1,प्‍लांट हेल्‍थ क्‍लीनिक,1,प्लाज्मा,1,प्लेटलेटस,1,बचपन,1,बलात्‍कार और समाज,1,बाल साहित्‍य में नवलेखन,2,बाल सुरक्षा,1,बी0 प्रेमानन्‍द,5,बीबीसी,1,बैक्‍टीरिया,1,बॉडी स्कैनर,1,ब्रह्माण्‍ड में जीवन,1,ब्लॉग चर्चा,4,ब्‍लॉग्‍स इन मीडिया,1,भारत के महान वैज्ञानिक हरगोविंद खुराना,1,भारत डोगरा,1,भारत सरकार छात्रवृत्ति योजना,1,मंत्रों की अलौकिक शक्ति,1,मनु स्मृति,1,मनोज कुमार पाण्‍डेय,1,मलेरिया की औषधि,1,महाभारत,1,महामहिम राज्‍यपाल जी श्री राम नरेश यादव,1,महाविस्फोट,1,मानवजनित प्रदूषण,1,मिलावटी खून,1,मेरा पन्‍ना,1,युग दधीचि,1,यौन उत्पीड़न,1,यौन शिक्षा,1,यौन शोषण,1,रंगों की फुहार,1,रक्त,1,राष्ट्रीय पक्षी मोर,1,रूहानी ताकत,1,रेड-व्हाइट ब्लड सेल्स,1,लाइट हाउस,1,लोकार्पण समारोह,1,विज्ञान कथा,1,विज्ञान दिवस,2,विज्ञान संचार,1,विश्व एड्स दिवस,1,विषाणु,1,वैज्ञानिक मनोवृत्ति,1,शाकाहार/मांसाहार,1,शिवम मिश्र,1,संदीप,1,सगोत्र विवाह के फायदे,1,सत्य साईं बाबा,1,समगोत्री विवाह,1,समाचार पत्रों में ब्‍लॉगर सम्‍मेलन,1,समाज और हम,14,समुद्र मंथन,1,सर्प दंश,2,सर्प संसार,1,सर्वबाधा निवारण यंत्र,1,सर्वाधिक प्रदूशित शहर,1,सल्फाइड,1,सांप,1,सांप झाड़ने का मंत्र,1,साइंस ब्‍लॉगिंग कार्यशाला,10,साइक्लिंग का महत्‍व,1,सामाजिक चेतना,1,सुपर ह्यूमन,1,सुरक्षित दीपावली,1,सूत्रकृमि,1,सूर्य ग्रहण,1,स्‍कूल,1,स्टार वार,1,स्टीरॉयड,1,स्‍वाइन फ्लू,2,स्वास्थ्य चेतना,15,हठयोग,1,होलिका दहन,1,‍होली की मस्‍ती,1,Abhishap,4,abraham t kovoor,7,Agriculture,7,AISECT,11,Ank Vidhya,1,antibiotics,1,antivenom,3,apj,1,arshia science fiction,2,AS,26,ASDR,8,B. Premanand,6,Bal Kahani Lekhan Karyashala,1,Balsahitya men Navlekhan,2,Bharat Dogra,1,Bhoot Pret,7,Blogging,1,Bobs Award 2013,2,Books,56,Born Free,1,Bushra Alvera,1,Butterfly Fish,1,Chaetodon Auriga,1,Challenges,9,Chamatkar,1,Child Crisis,4,Children Science Fiction,1,CJ,1,current,1,D S Research Centre,1,DDM,4,dinesh-mishra,2,DM,6,Dr. Prashant Arya,1,dream analysis,1,Duwa taveez,1,Duwa-taveez,1,Earth,43,Earth Day,1,eco friendly crackers,1,Education,3,Electric Curent,1,electricfish,1,Elsa,1,Environment,31,Featured,5,flehmen response,1,Gansh Utsav,1,Government Scholarships,1,Great Indian Scientist Hargobind Khorana,1,Green House effect,1,Guest Article,5,Hast Rekha,1,Hathyog,1,Health,62,Health and Food,5,Health and Medicine,1,Healthy Foods,2,Hindi Vibhag,1,human,1,Human behavior,1,humancurrent,1,IBC,5,Indira Gandhi Rajbhasha Puraskar,1,International Bloggers Conference,5,Invention,9,Irfan Hyuman,1,ISRO,5,jacobson organ,1,Jadu Tona,3,Joy Adamson,1,julian assange,1,jyotirvigyan,1,Jyotish,11,Kaal Sarp Dosha Mantra,1,Kaal Sarp Yog Remady,1,Kranti Trivedi Smrati Diwas,1,lady wonder horse,1,Lal Kitab,1,Legends,13,life,2,Love at first site,1,Lucknow University,1,Magic Tricks,10,Magic Tricks in Hindi,10,magic-tricks,9,malaria mosquito,1,malaria prevention,1,man and electric,1,Manjit Singh Boparai,1,mansik bhram,1,media coverage,1,Meditation,1,Mental disease,1,MK,3,MMG,6,Moon,1,MS,3,mystery,1,Myth and Science,2,Nai Pahel,8,National Book Trust,3,Natural therapy,2,NCSTC,2,New Technology,10,NKG,72,Nobel Prize,7,Nuclear Energy,1,Nuclear Reactor,1,OPK,2,Opportunity,9,Otizm,1,paradise fish,1,personality development,1,PK,20,Plant health clinic,1,Power of Tantra-mantra,1,psychology of domestic violence,1,Punarjanm,1,Putra Prapti Mantra,1,Rajiv Gandhi Rashtriya Gyan Vigyan Puraskar,1,Report,9,Researches,2,RR,2,SBWG,3,SBWR,5,SBWS,3,Science and Technology,5,science blogging workshop,22,Science Blogs,1,Science Books,56,Science communication,20,Science Communication Through Blog Writing,7,Science Congress,1,Science Fiction,9,Science Fiction Articles,5,Science Fiction Books,5,Science Fiction Conference,8,Science Fiction Writing in Regional Languages,11,Science Times News and Views,2,science-books,1,science-puzzle,44,Scientific Awareness,5,Scientist,36,SCS,7,SD,4,secrets of octopus paul,1,sexual harassment,1,shirish-khare,4,SKS,11,SN,1,Social Challenge,1,Solar Eclipse,1,Steroid,1,Succesfull Treatment of Cancer,1,superpowers,1,Superstitions,49,Tantra-mantra,19,Tarak Bharti Prakashan,1,The interpretation of dreams,2,Tips,1,Tona Totka,3,tsaliim,9,Universe,27,Vigyan Prasar,32,Vishnu Prashad Chaturvedi,1,VPC,4,VS,6,Washikaran Mantra,1,Where There is No Doctor,1,wikileaks,1,Wildlife,12,zakir science fiction,1,
ltr
item
Scientific World: ...ब्‍लॉगर पंच बताऍं, विजेता किसे बनाऍं ?
...ब्‍लॉगर पंच बताऍं, विजेता किसे बनाऍं ?
https://4.bp.blogspot.com/_C-lNvRysyww/TM5j6M5CLfI/AAAAAAAABpc/x5hKW991tIM/s200/Paheli.jpg
https://4.bp.blogspot.com/_C-lNvRysyww/TM5j6M5CLfI/AAAAAAAABpc/x5hKW991tIM/s72-c/Paheli.jpg
Scientific World
https://www.scientificworld.in/2010/11/blog-post_10.html
https://www.scientificworld.in/
https://www.scientificworld.in/
https://www.scientificworld.in/2010/11/blog-post_10.html
true
3850451451784414859
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy