क्या पुनर्जन्म सम्भव है? एक बेबाक विश्लेषण।

SHARE:

हमारे देश में अंधविश्वास इतना ज्यादा प्रचलित है कि लोग किसी के मुँह से कुछ भी सुन लें, तो उस पर आँख मूँद कर विश्वास कर लेते हैं। फिर चाहे व...

हमारे देश में अंधविश्वास इतना ज्यादा प्रचलित है कि लोग किसी के मुँह से कुछ भी सुन लें, तो उस पर आँख मूँद कर विश्वास कर लेते हैं। फिर चाहे वह किसी चमत्कार के बारे में हो अथवा पुनर्जन्म जैसी एकदम फालतू कल्पनाओं के बारे में। पिछले दिनों एक ब्लॉगर बंधु ने अपने ब्लॉग पर लिखा कि "वैज्ञानिक और विशेष तौर से परावैज्ञानिक इस विषय में लगभग एकमत हैं कि पूर्वजन्म की घटनाओं का विवरण देने वाले तमाम उदाहरण सही ओर खरे हैं।" तो आइए हम अपनी मोटी बुद्धि के आधार पर विचार करते हैं कि क्या वास्तव में ऐसा सम्भव है?

सबसे पहले हम इस बात पर विचार करते हैं कि मनुष्य क्या है? लोग जवाब देते हैं कि मनुष्य एक माटी का पुतला है। उस पुतले में जब कोई आत्मा प्रवेश करती है, तो वह सजीव हो उठता है और जब आत्मा विदा हो जाती है, तो वह मृत हो जाता है।

अब आप तो जानते ही हैं कि मेरा नाम रजनीश है। अब इसका मतलब यह हुआ कि मेरे भीतर इस वक्त जो आत्मा है, वह पहले किसी राकेश, सुरेश सा प्रकाश के शरीर में रही होगी। या हो सकता है कि किसी गधे, शेर अथवा हाथी के शरीर में। यानी की यह आत्मा इस समय मेरे शरीर में अस्थायी तौर पर निवास कर रही है। यहाँ पर मुख्य सवाल यह कि मैं क्या हूँ? क्या मैं आत्मा हूँ? या फिर मैं शरीर हूँ? जाहिर सी बात है मेरी पहचान मेरे शरीर से ही है, इसलिए मैं का मतलब मेरा शरीर भर है। अब मान लीजिए मेरा देहान्त हो जाता है। इसका मतलब यह हुआ कि मेरा शरीर मर गया। क्योंकि आत्मा कभी मरती नहीं, वह अजर अमर है। मान लेते हैं कि मेरे मर जाने के बाद आत्मा जिस शरीर में प्रवेश पाती है, उस शरीर के माँ-बाप उसका नाम राजेश रखते हैं। तो अब यह बताइए कि क्या राजेश के रूप में वह रजनीश का पुनर्जन्म होगा?

यदि ऐसा है तब तो फिर प्रत्येक व्यक्ति किसी न किसी का पुनर्जन्म होता है। लेकिन अगर ऐसा होता, तब तो हर व्यक्ति अपने पिछले जन्म के बारे में दावा करता घूमता। जबकि ऐसा नहीं होता है। ऐसा दावा कभी साल दो साल में कहीं एक व्यक्ति कर देता है। अब आप ही सोचिए कि राजेश नामक व्यक्ति पुनर्जन्म का जो दावा कर रहा है, तो यह कैसे सम्भव है? वह तो पहले राजेश था ही नहीं, वह तो पिछले जन्म में रजनीश था। फिर रजनीश की बातें बताकर राजेश साबित क्या करना चाहता है?

इससे पहले कि आप पुनर्जन्म पर कोई फतवा दें, एक बात और। क्या आपको पता है कि आप कोई काम कैसे करते हैं? आप कहेंगे कि यह भी कोई पूछने की बात है? मैं अपने सारे काम अपने हाथ से करता हूँ। अच्छा आप चलते कैसे हैं? आप कहेंगे कि भई मैं अपने पैरों से चलता हूँ। एक मिनट, आप गुस्सा न हों बस इतना और बता दें कि आप देखते कैसे हैं? आप कहेंगे पूरे बुडबक हो क्या? अरे भई मैं अपनी आँखों से देखता हूँ और कैसे देखूंगा?

मैंने ठीक कहा न? यानी की आप अपने जीवन का प्रत्येक काम अपने शरीर के अंगों से करते हैं चाहे वह चलना हो, खाना हो, पीना हो, देखना हो अथवा मल त्याग करना। इन तमाम कामों में आपकी आत्मा का कोई हस्तक्षेप अथवा योगदान नहीं होता है। तो इतना और मान लीजिए कि जिस प्रकार आप अपने शरीर के अंगों द्वारा खाते-पीते और दैनिक कर्म करते हैं, उसी प्रकार अपनी जिंदगी की तमाम बातों को याद रखने का काम भी अपने शरीर के एक महत्वपूर्ण अंग दिमाग के द्वारा करते हैं। आपको पता ही होगा कि जो चीजें हम बार-बार देखते, सुनते अथवा पढते हैं, वह एक सूचना के रूप में हमारे अवचेतन मस्तिष्क में जमा हो जाती हैं और इस प्रकार हमारी स्मृति अथवा याददाश्त का निर्माण होता है।

यानी कि मैं क्या हूँ, मेरे माँ बाप कौन हैं, मेरी जाति क्या है जैसी असंख्य सूचनाएं मेरे शरीर के एक अंग मस्तिष्क में जमा होती रहती हैं। अब इतना तो आपको पता ही होगा कि जब कोई व्यक्ति मर जाता है, तो उसके साथ उसका मस्तिष्क भी मर जाता है। वह उसी शरीर के साथ जला दिया जाता है अथवा मिटटी में दफना दिया जाता है। फिर यह कैसे सम्भव है कि किसी एक के शरीर के दिमाग की कोई जानकारी दूसरे शरीर में चली जाए? अर्थात एक मोटी बुद्धि के अनुसार ऐसा होना असम्भव है। यानी की जब एक दिमाग की सूचना दूसरे दिमाग में जा ही नहीं सकती तो फिर कोई व्यक्ति किसी दूसरे शरीर के जीवन से सम्बंधित बातें कैसे जान सकता है? इससे यह साफ जाहिर है कि पुनर्जन्म जैसी परिघटना समभव ही नहीं है।

लेकिन इसके बावजूद समय समय पर हमारे देश में अक्सर ऐसा सुनने में आता रहता है। अक्सर लोग कहते हैं कि फलां जगह पर एक लडका पैदा हुआ है, जो अपने पिछले जन्म की सारी बातें एकदम सही सही बता देता है। लेकिन इस तरह के सभी केसों में एक बात यह देखने में आई कि ऐसा दावा करने वाले व्यक्ति सभी लोग पुनर्जन्म के रूप में जिस स्थान का दावा करते हैं, वह उनके आस पास का ही होता है, उनकी ही बोली बोलने वाले लोगों का होता है और वे लोग उसी धर्म के मानने वाले होते हैं। कभी ऐसा नहीं सुनने में आया कि पुनर्जन्म का दावा करने वाले किसी व्यक्ति ने अपने पूर्व जन्म के बारे में यह बताया हो कि वह पहले अमरीका में पैदा हुआ था, अंग्रेजी बोलता था और उसके पिता अमरीका के राष्ट्रपति थे। क्या यह संयोग अपने आप में तमाम सवाल नहीं पैदा करता?

पुनर्जन्म के तमाम दावों का परीक्षण करने पर यह पता चलता है कि वे सभी फर्जी केस थे और सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए इस तरह की हरकत कर रहे थे। ऐसा मेरा कहना नहीं है, यह दावा है अल्बैर टी कोवूर, देश भर में फैली ज्ञान विज्ञान समितियों और ब्लॉग जगत के सक्रिय ब्लॉगर श्री प्रकाश गोविंद जी का, जिन्होंने ऐसे तमाम केसों का विश्लेषण करने के बाद यह प्रमाणित किया है।

तो अब आप बताइए, क्या सोचते हैं आप पुनर्जन्म के बारे में? और हाँ, चलते चलते एक सवाल दिमाग में गूँज रहा है कि क्या आपने किसी ऐसी घटना के बारे में सुना है जिसमें किसी व्यक्ति ने दावा किया हो कि वह पूर्व जन्म में बंदर, गधा, कुता अथवा सुअर रहा हो? आखिर आत्मा तो उनमें भी होती है भाई। और उनकी आत्मा भी कभी न कभी 84 लाख योनियों में भटकते हुए मनुष्य के शरीर में तो आती ही होगी?

COMMENTS

BLOGGER: 51
  1. अन्धविश्वासो को नकारती वैज्ञानिक सोच लिये हुए बेहतरीन आलेख.
    पुनर्जन्म का दावा भी लोकप्रियता (आज के सन्दर्भ मे TRP के लिये) के लिये ही है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. विषय का निर्वाह बड़े हल्के फुल्के तरीके से किया गया है जबकि इस विषय का गंभीर विवेचन ही अपेक्षित था ! मगर आम पाठकों के लिए संभवतः यही स्टाईल ज्यादा ग्राह्य हो ! हिन्दू चिंतन में पूर्वजन्म की अच्छी खासी दखल है -बुद्ध अनीश्वरवादी होने के बावजूद पुनर्जन्म की सम्भावना से इनकार नहीं कर पाए ! पर चूंकि अभी तक यह अवधारणा वैज्ञानिक पद्धति पर असंदिग्ध रूप से खरी नहीं उतर सकी है इसलिए मैं भी इसे स्वीकार नहीं कर पाता ! ऋषी चार्वाक का ही समर्थन करता हूँ जिन्होंने पुरजोर तरीके से पुनर्जन्म की मान्यता को नकारा था -भ्स्माविभूतस्य शरीरस्य पुनरागमनं कुतः ? जब देह भस्माभूत हो ही गयी तो फिर कैसा पुनर्जन्म ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सही कहते हैं, जिस प्रकार के पुनर्जन्म की बात की गई है वह संभव नहीं है। छान्दोग्य उपनिषद में एक स्थान पर संतान को ही पुनर्जन्म कहा गया है। अन्य किसी प्रकार का पुनर्जन्म संभव नहीं है।

    योनियों में आत्मा का भटकना भी जैविक विकास से संबद्ध रूपक है जिस की विचित्र अविश्वसनीय व्याख्याएं की गई हैं। गीता में आत्मा के लिए शरीरिणः शब्द का प्रयोग है। जिस का एक अर्थ शरीर जिस पदार्थ से बना है उस के मूल कण हैं। पदार्थ के मूल कण ही आत्मा हैं वे ही एक निश्चित संयोग से जीवित शरीर का निर्माण करते हैं। लाखों योनियों में भटकने के उपरांत मनुष्य जीवन प्राप्त करना वास्तव में पदार्थ में जीवनोत्पत्ति के उपरांत जैविक विकास और उस के सर्वाधिक विकसित रूप ग्रहण करने की यात्रा को इंगित करता है। "पदार्थ (आत्मा) को प्रथम जीव का रूप ग्रहण करने के उपरांत मनुष्य रूप तक विकसित होने में लाखों योनियों के रूप से गुजरना पड़ा है, यह सही है।"

    उत्तर देंहटाएं
  5. वत्‍स जी के लेख पर आपने इस लेख का वादा किया,अब निभाया, धन्‍यवाद,
    http://panditastro.blogspot.com/2009/09/blog-post.html
    डिलिट कमेंट वाला लेख Direct link
    वहां मेरा कमेंटस डिलिट कर दिया गया, आपके लेख को शक्ति देगा ऐसा अनुमान है, डिलिट कमेंट निम्‍न लिखित था,

    प्रसिद्ध प्राचय-विद्या विशरद मैक्‍समूलर, जिसने वेदों पर काम किया है, लिखता है--
    ''वेदों में आवागमन की विचारधारी नहीं मिलती, बल्कि एक अंतिम दिन--आखिरत (परलोक) की विचारधारा पाई जाती है।''

    अनेक विद्वानों और गवेषियों ने वेदों में आवागनीय पूनर्जन्‍म की धारण न होने की उद्घोषणा की है-
    पूर्व राष्‍ट्रपति एवं हिन्‍दू धर्म के महान चिन्‍तक डा. राधाकृष्‍णन के अनूसार-
    वेदों में आवागमन का सिद्धांत नहीं मिलता - (Indian Philosophy, Part,I,Pp 112-116)

    'आत्‍मा और पुनर्जन्‍म' पुस्‍तक की लेखिका सोमा सबलोक का कहना है किः
    ''पूर्व जन्‍म का सिद्धांत अकर्मण्‍यता पैदा करनेवाली एक मनगढंत बात है। वास्‍तव में पूर्वजन्‍म के कर्मों के फल का सिद्धांत धनिक वर्ग के लोगों और धर्म के छेकेदारों के उन पिट्ठुओं के द्वारा बनाया गया है जो ग़रीब भोलीभाली जनता को लूटना चा‍हते थे और उन्‍हें उनकी गरीबी में ही संतुष्‍ट रखना चाहते थे।'' (पृ.12)

    प्रसिद्ध विद्वान श्री सत्‍यकाम विद्यालंकार ने लिखा है--
    ''वेदों में आवागमन नहीं है इस बात पर तो मैं जुआ भी खेल सकता हूं''

    रामधारी सिंह ' दिनकर' अपनी प्रसिद्ध् पुस्‍तक 'संस्‍कृति के चार अध्‍याय' में लिखते हैं-
    ''मंत्र युग के बाद ब्राह्मणों का युग आता है। पुनर्जन्‍म और कर्मफलवाद का प्रत्यक्ष विवरण ब्राह्मण-ग्रंथों में भी नहीं मिलता, यद्यपि ब्राह्मणों से यह ज्ञात होता है कि तत्‍कालीन समाज यह मानता था कि मरने के बाद जीव परलोक में वास करता है और लोक में उसने जैसे कर्म किए ळें, परलोक में उसे वैसे ही फल मिलते हैं।'' (संस्‍करणः 1998, पृ. 133)
    अक्तूबर 1968 को प्रकाशित एक समाचार के अनुसार, ''मनोविज्ञान के विशेज्ञों (Psychologists) ने कुछ केसों की जांच पडताल करने के बाद यह मत प्रकट किया कि कुछ लोग जो अपने पूर्व जन्‍म की बातें बयान करते हैं, वे अधिकतर मानसिक हिस्टीरिया (psychic Hysteria) रोग से ग्रसित होते हैं और बातें इसी का परिणाम होती हैं। जयपुर के मानसिक चिकित्‍सालय के डा. बी. के. व्‍यास और एक अन्‍य विशेज्ञ श्री रत्‍न सिंह का दावा है कि उन्‍होंने कुछ केसों का इलाज किया है, जिसमें उन्‍हें सफलता मिली है। डा. व्‍यास ने सुनाइटेड न्‍यूज आफ इंडिया को साक्षात्कार देते हुए कहा कि जो लोग पूर्वजन्‍म की घटनाएं बयान करते हैं, उनकी मानसिक स्थिति साधारण्‍तया सन्‍तुलित नही होती। ये अधिकतर व्‍यक्तिगत समस्‍याओं के केस होते हैं। ये लोग मानसिक असन्‍तुलन के कारण कुछ और बनने के इच्‍छुक रहते हैं। इस प्रकार मनगुढन्‍त किस्‍से बयान करने से कुछ दूसरे लाभ प्राइज़ हो जाते हैं।'' (हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स, नई दिल्‍ली)

    उपरोक्‍त सभी साभार पुस्‍तक ''आवागमनीय-पुनर्जन्‍म''मर्कजी मक्‍तबा इस्‍लामी पब्लिशर्स, नई दिल्‍ली-110025
    ------------
    इस विषय पर 12 पृष्‍ठों में वेद और कुरआन की शिक्षाओं से अधिक जानने के लिये देखें आनलाईन पुस्‍तक ''अगर अब भी ना जागे तो'' में लेख
    'पारलौकिक जीवन के आस्था तथा पुनर्जन्‍म'' पृष्‍ठ 123 से 134 ,
    book "AGAR-AB-BHI-NA-JAGE-TO-HINDI"
    Direct link this book

    उत्तर देंहटाएं
  6. ना तो पुनर्जन्म का अस्तित्व साबित किया जा सकता है और ना ही अनस्तित्व.

    मैं स्वयं संशयवादी हूं, सिर्फ़ उसी को तथ्य मानता हूं जो वैज्ञानिक पद्धति से दर्शाया जा सके.

    मुद्दा सही उठाया है, पर अफ़सोस है कि आपके तर्क ज्यादा प्रभावित नहीं करते. हिंदू दर्शन में इनकी आसानी से काट उपलब्ध है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. अंधविश्वास पर कम पढे-लिखे या अनपढ लोगो का ही एकाधिकार नही है,यंहा एक कलेक्टर हुये हैं जिनकी पत्नी ने पुनर्जन्म का दावा किया था।इसे छोटे-मोटे नही बडे-बडे अख़बारो और बडे-बडे न्यूज़ चैनल ने भी दिखाया था।

    उत्तर देंहटाएं
  8. रजनीश जी,
    क्षमासहित कहना चाहूंगा कि पोस्ट ने प्रभावित नहीं किया। एक तो ठोस वैज्ञानिक आधार पर ये निष्कर्ष नहीं निकाला गया है दूसरे, आपने पुनर्जन्म की बात की तो past life therapy का जिक्र भी आवश्यक हो जाता है जो psychologist अपनाते हैं (ये गलत है तो कैसे गलत है?)

    आपने लिखा: जाहिर सी बात है मेरी पहचान मेरे शरीर से ही है, इसलिए मैं का मतलब मेरा शरीर भर है।
    गौर करें: मैं और शरीर दोनों अलग चीज हैं। देखें एक विक्षिप्त/पागल को, वो नहीं बता पाता कि वो कौन है? उसके पास कोई मैं नहीं है, पर ध्यान दें, उसके पास शरीर है। अतः मैं शरीर कैसे हो सकता है?
    आपने लिखा: पुनर्जन्म के तमाम दावों का परीक्षण करने पर यह पता चलता है कि वे सभी फर्जी केस थे और सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए इस तरह की हरकत कर रहे थे।
    गौर करें: ये तर्क बेहद कमजोर है और वैज्ञानिक सोच के विपरीत भी। ये तो यही बात हुई कि अगर किसी से पूछें दो और दो का जोड़ कितना हुआ? और वो उत्तर दे उन्नीस, इससे आप ये निष्कर्श निकालें कि गणित एक गलत विषय है क्योंकि दो और दो उन्नीस नहीं होते। किन्ही एक दो की गणना गलत हो सकती है पर पूरे विषय को ही गलत कह देना उचित नहीं है। अगर हम unbiased scientific approach करें इस समस्या पर तो ये बिन्दु उभरकर सामने आते हैं-
    १. sample size कितने लोगों का अध्ययन किया गया?
    २. method of study, क्या जो कदम उठाया गया वे right set of experiments थे? यह बहुत ही महत्त्वपूर्ण है। मान लीजिये आप कान से फूल देखने की कोशिश करते हैं। अब फूल देखने के लिये तो आंख चाहिये, कान नहीं इसलिये आप फूल नहीं देख पायेंगे और फ़िर ये निष्कर्ष निकालेंगे कि फूल होता ही नहीं क्योंकि फूल के तमाम दावों के बावजूद वो नहीं दिखा। सारे फ़र्जी केस थे!! इसलिये पुनः कहता हूं,right set of experiments बेहद जरूरी हैं।
    ३. what is the control in your experiment? ध्यान दें, कंट्रोल के बिना विज्ञान में किसी प्रयोग का कोई भी मतलब नह्जीं होता।
    ४. आपने लिखा: चलते चलते एक सवाल दिमाग में गूँज रहा है कि क्या आपने किसी ऐसी घटना के बारे में सुना है जिसमें किसी व्यक्ति ने दावा किया हो कि वह पूर्व जन्म में बंदर, गधा, कुता अथवा सुअर रहा हो?
    गौर करें: ऐसे दावे भी किये गये हैं (सही, गलत होना बाद की बात है)कृपया literature देखें। महावीर जैन धर्म के तीर्थंकर थे उन्होने इस दिशा में सबसे ज्यादा कहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. रजनीश भाई कहने या मानने से कुछ नही होता, अंधविशवास मैभी नही करता, लेकिन जो लेख आप ने लिखा पुर्व्जनम पर लिखा , क्या इसे सिर्फ़ हिन्दू ही मानते है? अरे भाई अगर आप नही मानते तो आप के यहां मरने पर किस लिये दफ़नाते है? वो कयामत कया है? ... हिन्दुयो से ज्यादा अन्ध विशवासआप के धर्म मै है, पहले उसे सुधारो फ़िर दुसरी तरफ़ सुधारने का ठेका लो. इस लिये आप ऎसी बाते ज्यादा मत लिखे, विग्याण क्या है उसे वेसा ही रहने दे.. ओर धर्म की बातो मै मत उलझे,
    मेरी टिपण्णी आप को कडबी जरुर लगेगी, लेकिन मै आप को समझा रहा हु , अपना समझ कर क्योकि ब्लांग जगत मै ऎसी बातो से हमे ही झगडा हुआ है, इस लिये ऎसी बातो को बार बार मत उछालो, मुसलिम ओर बाकी को मिल कर रहने दो, वो ग्याण किस काम का जिस से लोगो के मन मै दुशमनी पेदा हो.

    ओर अगर लिखना ही है तो सब से पहले अपने समाज की बुराईयो के बारे लिखॊ...उसे सुधारो फ़िर हम मानते है आप को.धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. पुनर्जन्म की कहानी तो हमने भी बहुत सुनी पर सच कुछ यकीन नही होता ..कही कही सब बेकार की बातें लगती है.
    आपका यह पोस्ट बहुत ही बढ़िया है जो एक वैज्ञानिक सोच पैदा करता है इस अंधविश्वास की कहानी पर..

    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  11. "आप अपने जीवन का प्रत्येक काम अपने शरीर के अंगों से करते हैं चाहे वह चलना हो, खाना हो, पीना हो, देखना हो अथवा मल त्याग करना। इन तमाम कामों में आपकी आत्मा का कोई हस्तक्षेप अथवा योगदान नहीं होता है।"

    जाकिर जी, किसी आत्माहीन अर्थात मृ्तक व्यक्ति के द्वारा ये समस्त शारीरिक क्रियाएँ यदि आप करवा सकें तो मैं आज ही आपका शिष्यत्व स्वीकार करने को तैयार हूँ:))

    बिल्कुल ईमानदारी से कहना चाहूँगा कि मुझे तो आपका ये आलेख एक बचकाने प्रयास से अधिक नहीं लगा.....
    आप जो अपने हरेक लेख में अल्बैर टी कोवूर नाम के जिस शख्स का जिक्र करते रहते हैं---बताईये क्या वो कोई भगवान है? या फिर कोई महान वैज्ञानिक है? क्या वो इस दुनिया के समस्त ज्ञात-अज्ञात विषयों का जानकार है? क्या ईश्वर ने उसे कोई दूत अथवा पैगम्बर बना कर भेजा है कि वो संसार से अज्ञान को मिटाकर ज्ञान का प्रकाश फैला सके?
    जाकिर जी, किसी के विचारों से प्रभावित होना एक अलग बात है, लेकिन ये नहीं कि हम अपनी स्वयं की सोच को खत्म करके उसी की बुद्धि से सोचने का काम लेने लगे.......आप अंध श्रद्धा उन्मूलन की बात करते हैं,मैं तो कहता हूँ कि आप खुद सबसे बडे अंधभक्त हैं अल्बैर टी कूवर के। समाज से अन्धश्रद्धा का उन्मूलन करने की बजाय आपको सबसे पहले खुद की अन्धश्रद्धा का उन्मूलन करना होगा.....
    (अभी थोडा समय कम है,इसलिए टिप्पणी अधूरी छोड कर जा रहा हूँ)

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत रोचक तरीके से आपने इस विषय को लिखा है .सच झूठ का तो समझ नहीं आता ..पर यह जानने की उत्सुकता हमेशा बनी रहती है की आखिर मरने के बाद इंसान के अन्दर जो आत्मा कही जाती है वह कहाँ जाती है ..अब गीता में तो यही पढ़ा है

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत बेहतरीन लेख है...काफी कुछ साफ़ कर दिया है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  14. अगर विज्ञान की बात करें तो आप को भी पता ही होगा कि समस्त जड़ और चेतन का निर्माण ' पदार्थ ' से हुआ है , जो कि कभी ख़त्म नहीं होता सिर्फ रूपांतरित होता है ऐसे में आप ये दावा कैसे कह सकते हैं कि मृत शरीर के ' पदार्थ ' से एक दूसरे शरीर का पुनर्निमाण संभव नहीं है |
    बाकि आपके तर्क अभी भोथरे ही हैं |

    पंडित जी की बात से पूर्णतया सहमत

    ""आप अपने जीवन का प्रत्येक काम अपने शरीर के अंगों से करते हैं चाहे वह चलना हो, खाना हो, पीना हो, देखना हो अथवा मल त्याग करना। इन तमाम कामों में आपकी आत्मा का कोई हस्तक्षेप अथवा योगदान नहीं होता है।"

    || " सत्यमेव जयते " ||

    :) :( :P :D :$ ;)

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. Jakir jee aapne ye to padha hoga ki energy hamesha constant rehatee hai chahe uska form badalta rahe isee adhar par punarjanm ko aap explain kar sakte hain jarooree nahee ki aap wapis manushy hee hon aap bijali panee hawa ped paudha janwar kuch bhee ho sakte hain ya wapas us sampoorn shakti ka hissa ban sakte hain. aisee meri astha hai.

    उत्तर देंहटाएं
  17. यदी आत्मा नही है तो कब्रों में पडे हड्डियों के ढाँचे भी कयामत आने पर पुनर्जीवीत होने का इंतजार ना करे। एक अवैज्ञानिक , कुतर्क युक्त , विद्वेशपुर्ण ,घटिया लेख।

    उत्तर देंहटाएं
  18. Ghost Buster ji,

    Presence of something can be proved, Absence of something need not be proved. :)

    Like, we prove that air is present. We do not prove that vacuum is present, rather we prove where there is nothing, we call it vacuum.

    Am i right?

    उत्तर देंहटाएं
  19. कोई बात नहीं, एक न एक दिन तो सबको मरना ही है। पता लग ही जायेगा, तो आ कर बता देना अगर सम्भव हो। वैसे अगर किसी दिन इंसान अगर मृत्यु पर विजय पा सका तो इस तरह से सारे तर्क जो पुनर्जन्म की बातों में यकीन रखते हैं, चुप हो जायेंगे।

    A Question to believers
    मैने बहुत सुना है, कि आत्मा ना पैदा होती है, और ना मरती है। सही?
    अगर हां, तो the total number of souls (consisting of all species of the world) in 1900 should be same as in year 2000.
    परन्तु ये सब जानते हैं कि इंसानों कि जनसंख्या तेज़ी से बढ़ रही है। इसका मतलब, बाकी जीव जन्तुओं की संख्या घटनी चाहिये? या फिर हर रोज़ इश्वर नई नई आत्मायें पैदा कर रहे होगें?

    जब कि मुझे नहीं लगता कि दोनो ही cases सही हैं !! तो फिर सच्चाई है क्या?

    पंडित वत्स जी,
    आप तो गुस्सा हो रहे हो, उन्होंने यहां इस लिये पोस्ट किया था, कि इस पर बहस हो सके, कि आखिर लोग कैसे दावा करते हैं पुनर्जन्म का।

    प्रकाश गोविन्द जी,
    आपका नाम देख कर अच्छा लगा, कि किसी ने तो इस पर रिसर्च कर के किसी बेस पर कुछ बोला है। वरना मेरे जैसे बहुत से लोग, सिर्फ़ अपनी सोच समझ के अनुसार ही बोलते हैं। बिना किसी data, information and figures के।

    Keep this discussion alive !! I really lyk discussing on such topics

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय योगेश जी शास्त्र भी उठा कर देख लीजिए

      हटाएं
  20. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  21. वtत ज्ी से सहमत हूँ । अमरत्व की अवधारना भी हिन्गुत्व की है जिसे वैग्यानिक सिद्ध करने जा रहे हैं तो जब इस पर खोज होगी तब ये भी सिद्ध हो जायेगी जब इस पर अभी कोई काम ही नहीं हुया तो नकारा भी नहीं जा सकता आपका आलेख भी अधिक प्रभावित नहीं कर सका किसी एक बाहर के आदमी के कहने से कैसे मान लें जब कि उनसे भी बडे दृ्श्टा योगी बहुत कुछ कह गये ह। धन्यवाद अन्यथा ना लें इसे अभार्

    उत्तर देंहटाएं
  22. बेनामी9/29/2009 12:02 am

    ज़ाकिर साहब ज़रा इस्लाम के कयामत वाले कंसेप्ट की भी वैज्ञानिक समीक्षा करें तो रंग जमे.

    उत्तर देंहटाएं
  23. वैज्ञानिक तौर पर तो अभी ईश्वर की भी व्याख्या भी नही हो पाई है तो क्या आप ईश्वर( अल्लाह, God) के अस्तित्व को भी नकारते है ज़ाकिर ?

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! आपकी लेखनी को सलाम! पुनर्जन्म की बात मैंने बहुत सुनी हैं पर इस बात पर विश्वास नहीं होता ! विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  25. मित्रो, इस पोस्ट पर आई तमाम प्रतिक्रियाएं आशा के अनुरूप ही हैं, सिर्फ एक को छोड़कर। और जिस प्रतिक्रिया ने मुझे निराश किया है, वह है आदरणीय राज भाटिया जी की। वे लिखते हैं- “अरे भाई अगर आप नही मानते तो आप के यहां मरने पर किस लिये दफ़नाते है? वो कयामत कया है? ... हिन्दुयो से ज्यादा अन्ध विशवास आप के धर्म मै है, पहले उसे सुधारो फ़िर दुसरी तरफ़ सुधारने का ठेका लो. इस लिये आप ऎसी बाते ज्यादा मत लिखे, विग्याण क्या है उसे वेसा ही रहने दे..”
    आदरणीय भाटिया जी, याद कीजिए उस पोस्ट जो एक तांत्रिक द्वारा एक बूढे दम्पत्ति के मकान पर कब्जा करने को लेकर लिखी गयी थी। उस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए आपने लिखा था-
    पता नही लोगो को क्या मिलता है, लेकिन इन मोहदय का मामला कुछ अलग तरह का है, इस मै इस कुत्ते तांत्रिक ने इन की बेटी को पहले फ़ंसाया.. चलिये जो भी हुया गलत हुया, ओर अगर वो तंत्रिक नीदर लेंड या कही भी युरोप मे है तो आप मुझे उस का चित्र नाम पता भेजे, हो सके तो उस के बारे जितना भी हो भेजे, कोई पुलिस रिपोर्ट की कापी, वरंट जेसे कागज, बाकी मै उस का हिसाब किताब यहां से चुकता करवा सकता हुं, क्योकि ऎसे कमीनो को जितना ज्यादा सबक सिखाया जाये उतना ही कम है, लेकिन हमारे आम लोगो को भी समझ आनी चाहिये..
    मै आपसे एक सवाल पूछना चाहता हूँ कि उस समय आप इतने उत्तेजित क्यों हो गये थे? कोई अगर किसी को लूट रहा है, तो उसे लूटने दीजिए। शायद आप इस वक्त यही कह रहे हैं। अंधविश्वास कोई व्यक्तिगत चीज नहीं, यह पूरे समाज को प्रभावित करता है। इसका रूप और इसका असर आप भी देख चुके हैं। इसलिए इसे जैसा का तैसा नहीं छोडा जाना चाहिए।
    एक बात और। आपने उस समय धर्म का मामला नहीं उठाया, जब ज्योतिष, तंत्र-मंत्र, भूत प्रेत और ढोंगी चमत्कारियों के बारे में लिखा जा रहा था। उस समय आप उन सबसे सहमत थे। फिर अब धर्म का मामला कहां से आ गया? क्या आपको लगा कि मैं कहीं से किसी धर्म को महिमामंडित कर रहा हूं?
    भाटिया जी, आपकी इस टिप्पणी से मैं वाकई निराश हूं, आप जैसे बुजुर्ग व्यक्ति से मुझे इस तरह की कतई उम्मीद नहीं थी। क्योंकि आप एक सिंसेयर और गम्भीर व्यक्ति हैं। “तस्लीम” का उददेश्य समाज में फैले अंधविश्वास के बारे में विमर्श को बढावा देना और तर्कपूर्ण बातों को लोगों के सामने रखना है, किसी को नीचा दिखाना नहीं। यदि यहां पर कुछ बातें कही जा रही हैं, तो आप तर्क के आधार पर अपने जवाब रखिए, उसे धर्म से जोड़कर दूसरी ओर मत डायवर्ट करिए। मैं आपको और अन्य लोगों को बताना चाहता हूं कि मेरे लिए अंधविश्वास गलत है, चाहे वह हिन्दू धर्म का हो अथवा मुस्लिम। और हाँ, अन्य टिप्पणियों का जवाब देने से पहले एक बात और मैं बताना चाहूंगा कि मैं तत्ववादी और यथार्थपरक व्यक्ति हूं, किसी ईश्वरीय सत्ता में न तो मुझे विश्वास है और न ही किसी प्रकार के चमत्कार में। मैं सिर्फ उन्हीं बातों में विश्वास करता हूं, जो देखी, परखी और महसूसी जा सकती हैं, अन्य किसी ईश्वरीय अवधारणा पर मुझे बिलकुल यकीन नहीं है। लेकिन आप सबसे मेरा निवेदन है कि व्यक्गित बातों को दरकिनार कर मुददों पर बात कीजिए और अपनी सही पहचान के साथ तर्कों के सहारे अपनी बात रखिए, मुझे प्रसन्नता होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  26. अब आते हैं अन्य टिप्पणियों पर। अरविंद जी, आपका कहना सही है, इस पोस्ट को जानबूझकर हल्के फुल्के ढंग से प्रस्तुत किया गया है। क्योंकि मेरा मानना है कि आम आदमी तक अपनी बात पहुंचाने का यही सबसे उचित तरीका है।
    राकेश कोशी जी, आपके लिए सिर्फ इतना ही कहना चाहूंगा कि आप शायद पहली बार “तस्लीम” पर आए है, इसकी पिछली दो चार पोस्टों का पढ लें, आपको समझ में आ जाएगा कि इस पोस्ट का उददेश्य क्या है।
    अनिल पुसदकर जी, आपकी बात सही है, अंधविश्वास गरीबों या वंचितों की बपौती नहीं रहा, वह आज धनिकों में ज्यादा पाया जाता है।
    रविकांत पाण्डेय जी, यहां पर सामान्य एवं स्वस्थ व्यक्ति की बात की जा रही है, पागलों की नहीं। रही बात आंकणों की तो आप ही एक भी ऐसे व्यक्ति का उदाहरण दें, जहां पर यह प्रमाणित हो कि वह पुनर्जन्म का सटीक केस है। सिर्फ किताबों का हवाला देकर किसी बात को सही नहीं कहा जा सकता।
    पंडित वस्त जी, आप मुददे की बात करें, तो मुझे प्रसन्नता होगी। आपकी जानकारी के लिए मैं बताना चाहूंगा कि मैं कोवूर की विचारधारा का समर्थक हूं, क्योंकि मुझे ये बातें तर्कपूर्ण लगती हैं। आप अपनी बात तर्कपूर्ण ढंग से प्रमाणित कर दीजिए, मैं आपका भी समर्थक हो जाउंगा।
    रंजना जी, आत्मा के विषय में अभी खोज जारी है, इसलिए जब तक वह प्रमाणित नहीं हो जाता, उस बारे में कुछ भी दावे के साथ कहना सम्भव नहीं है।
    केएसपी जी, कयामत का विचार भी एक धार्मिक परिकल्पना है, जो अन्य तमाम धार्मिक विचारों की तरह कतई प्रमाणिक नहीं है, लेकिन इससे उस विषय का क्या लेना देना? एक बार मैं आप सबसे पुन कहना चाहूंगा कि हम यहां पर धार्मिक विश्वासों की सत्यता परखने नहीं बैठे हैं, हम उन मुददों और अंधविश्वासों की बात करते हैं जो हमारे समाज को कहीं न कहीं प्रभावित करती हैं। इसलिए आप सबसे निवेदन है कि विषय को भटकाएं नहीं और मुददो पर आधारित बात करें।
    और अंत में योगेश भाई। प्रकाश गोविन्द जी तो कभी कभी अन्तर्धान हो जाते हैं, पर आप हमेशा सत्य के संधान में हमारे साथ रहते हैं, यह देख कर सुकून होता है। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  27. जाकिर जी,

    सच पूछिए तो आज मैं आपसे किसी भी विषय पर बहस करने के मूड में कतई नहीं हूँ.....हो सकता है कि आपकी विचार बुद्धि जो कुछ भी आपको दिखा रही हो,आपके लिए वही सत्य हो।।

    आज मैं सिर्फ आपसे दो प्रश्नों के उत्तर चाहता हूँ,आशा करता हूँ कि आप इन के उत्तर देकर मेरी जिज्ञासा को शांत करने की कृ्पा करेंगें......
    1. कृ्प्या ये स्पष्ट करें कि अंधविश्वास और अन्धश्रद्धा की क्या परिभाषा है?
    2. दूसरा जो प्रश्न है वो मैं दिनाँक 9/9/2009 को आपकी पोस्ट "यौन रोगों का बढता बाजार--दोषी कौन" पर टिप्पणी के माध्यम से आपके सामने पहले भी रख चुका हूँ। अपनी उक्त पोस्ट में आपने ये लिखा है कि "हमारी धार्मिक विसंगतियाँ यौन रोगों की बढोतरी का कारण है"।
    मेरा प्रश्न ये था कि कृ्प्या स्पष्ट करें कि हमारी ऎसी कौन सी धार्मिक विसंगतियाँ है,जो कि यौन रोगों की बढोतरी का कारण बन रही हैं?
    तब उस समय आपने शीघ्र ही मेरी इस जिज्ञासा का निवारण करने का वादा किया था....... बहुत दिन बीत जाने के पश्चात भी आपकी ओर से कोई उत्तर नहीं मिल पाया तो आज पुन: मैं वही प्रश्न आपके सामने रख रहा हूँ.....आशा करता हूँ कि आप मेरे दोनों ही प्रश्नों का उत्तर देने का उत्तर देने की कृ्पा करेंगें। क्यों कि मैं समझता हूँ कि एक लेखक का ये दायित्व बनता है कि यदि किसी पाठक नें उसके लिखे हुए पर कोई प्रश्न उठाया है तो वो उसका स्पष्टीकरण अवश्य दे......
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  28. बढ़िया श्रीमान जी,
    यहां संवाद-प्रतिवाद देखने को मिलता रहता है, अच्छा लगता है।

    लोकप्रिय मामलों में ऐसा होता ही है। आखिर अधिकतर लोग अपने सामान्य सूचनापरक ज्ञान के ही आधार पर ही, उपलब्ध हो पाए ज्ञान के आधार पर ही जीवन के भवसागर में उतरे हुए हैं।

    बाकी सब तो है जैसा ही है।
    आपकी लिखी एक बात ने चौंकाया। ‘आत्मा की खोज अभी जारी है।’
    क्या खूब!

    समस्या यहीं से तो शुरू होती है, और वहीं आप संशय छोड़ देते हैं।

    अगर आत्मा की खोज अभी जारी है, यानि कि आत्मा के बारे में अभी कुछ खास नहीं कहा जा सकता। आत्मा की उपस्थिति के विचार का ही विस्तार हैं ये सभी मामले, जो आपस में गुंथे हुए हैं।

    आत्मा का विचार सबसे प्राचीन है, आदिमकालीन। इसी से हर भौतिक वस्तुओं में आत्मा, देवत्वरोपण, ईश्वर, परमआत्मा आदि-आदि की संकल्पनाएं पैदा हुईं। पुनर्जन्म की अवधारणा का अविष्कार तो इनके सापेक्ष काफ़ी आधुनिक है। हमारे यहां वेदों के समय तक यह पैदा नहीं हुई थी।

    अगर आप ऐतिहासिक पृष्ठभूमि के साथ इसे देखेंगे तब पता पड़ेगा कि इस अवधारणा की उत्पत्ति, लगभग राज्यों और उनके शोषण की उत्पत्ति के साथ-साथ हुई।

    यदि आत्मा है, तो ईश्वर है, चेतना से पदार्थ की उत्पत्ति है, भूत-प्रेत हैं, जादू-चमत्कार हैं, पुनर्जन्म है, सारी भूल-भुलैयाएं हैं।

    इसलिए आत्मा के प्रश्न से जूझना सबसे प्राथमिक है। आप आत्मा के अस्तित्व के सवाल को स्थगित रखकर या अभी संदेह में रखकर, बाकी की बातों के लिए तर्कों के जरिए पुरजोर लड़ाई नहीं लड़ सकते।

    विज्ञान की उत्पत्ति के समय ही सर्वप्रथम उसकी उर्जा इन्हीं सब के अस्तित्व को टटोलने में ज्यादा खर्च हुई थी, इसे ऐसे भी कह सकते है पदार्थ और चेतना के संबंधों को समझने के इन प्रयासों से ही विज्ञान की उत्पत्ति हुई थी।

    असल विज्ञान जितनी उर्जा खर्च कर सकता था, कर ली गई, और अब उसके पास इन फ़ालतू की चीज़ों के लिए समय नहीं है। अब केवल सूडोसाईंस की कुछ धाराएं ही इस सब पर अभी भी साधनों और उर्जा का अपव्यय करने में लगी हुई हैं, और यह यथास्थिति बनाए रखने की, आम जनमानस को उलझाए रखने की कवायदें वर्तमान व्यवस्था के हितों के अनुकूल हैं, अतः वह इन्हें प्रश्रय और प्रचार उपलब्ध कराता रहता है।

    सारी स्थिति विज्ञान और अद्यतन दर्शन के सामने बिल्कुल साफ़ है, यह बात अलग है कि वह आपकी कितनी पहुंच में हैं।

    आप पंडित वत्स जी और उन्हीं के जैसे और महानुभावों से संवाद-प्रतिवाद कीजिए, समय का संवाद तो आपसे है।

    शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  29. जाकिर भाई बात अंतर्ध्यान होने की नहीं है ! लेकिन यहाँ हमेशा ऐसे मुद्दों पर बातें करते हुए निराशा होती है ! कुछ लोग यहाँ हैं जो आपकी किसी भी बात का जवाब नहीं देंगे ..... आपके किसी तर्क को नहीं सुनेंगे ... बस हवा में लाठी घुमाने लगेंगे !

    आपने तो अपने मेल में देखा ही होगा कि मैंने बहुत ही विस्तृत प्रतिक्रिया दी थी, लेकिन थोड़े ही समय बाद मैंने उसे डिलीट कर दिया ! आप ही बताईये कि उस प्रतिक्रिया से क्या होता ? सिवाय आपस में कटुता और वैमनस्य बढ़ने के ! जब परस्पर 'मैच्योर' लोग सार्थक संवाद करें तभी बात बनती है ! यह नहीं कि आपने कोई तर्कपूर्ण विचार सामने रखे ....और हम छूटते ही बोल दें कि तुम उल्लू हो ...तुम लल्लू हो या बचकाना लिखते हो !

    कहते हैं कि जो तर्क कर न सके वो गुलाम है / जो तर्क सुने ही नहीं वो कट्टर है ! यहाँ कुछ लोग गुलाम और कट्टर दोनों ही हैं !

    और इस बार तो जिस तरह बात को खतरनाक तरह से दूसरी एंगल की तरफ "डायवर्ट" किया गया वो बेहद अफसोसनाक है !
    अरे प्रभु !! अगर पुनर्जन्म होता है तो सम्पूर्ण मानवजाति का होता होगा ! यहाँ पर मजहब कहाँ से आ गया ???

    आपको बात हलकी या मजाक की लग सकती है लेकिन मेरी निगाह में अत्यंत संगीन मामला है ! कल को मेरे ऊपर भी आरोप लगाया जा सकता है कि बाहरी मुल्कों का एजेंट हूँ मैं ...बाहर से पैसा मिलता है !

    खैर चैप्टर क्लोज करिए !
    आप भी जाकिर भाई कहाँ चक्कर में पड़े हैं !
    तुकबंदी या नौटंकी वगैरह लिखिए .... वही ठीक है !

    उत्तर देंहटाएं
  30. बेनामी9/30/2009 1:09 am

    इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  31. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  32. मैं पहले भी आप लोगों के आग्रह कर चुका हूं कि विषय पर बात करें, मुददे को धार्मिक रंग देने का कुत्सित प्रयास न करें। ऐसी टिप्पणियों को प्रकाशित नहीं किया जाएगा।

    वत्स जी, आप इतने अधीर क्यों हो रहे हैं। सिर्फ 10 दिन और प्रतीक्षा करें। कोशिश रहेगी कि उससे पहले ही मैं वह लेख प्रकाशित कर सकूं। और जहां तक अंधविश्वास की बात है मेरी समझ से वे बातें जो तर्क और परीक्षण की कसौटी पर न कसी जा सकें अंधविश्वास है। हमारे समाज में ऐसे तमाम अंधविश्वास प्रचलित हैं। पर जो विश्वास हमारे समाज को सीधे सीधे प्रभावित करते हैं और जिसके दुष्परिणाम हम सबको भुगतने पडते हैं, हमारी कोशिश रहती है कि तस्लीम पर उनकी चर्चा की जाए।

    समय जी, "आत्मा" के सम्बंध में मैंने वह बात विज्ञान के नजरिए से कही थी। वैसे आपकी बातें तर्कपूर्ण और प्रभावित करने वाली हैं। आप जैसे लोगों की प्रतिक्रिया देखकर उत्साह बढता है।

    गोविंद जी, ऐसे ही कभी-कभी दर्शन देते रहा करें, छोटे भाइयों का हौसला बरकरार रखने के लिए भी यह जरूरी है।

    उत्तर देंहटाएं
  33. अरविन्द जी से सहमत हलके में निबाह किया गया. मुझे यह अंदाज पसंद नही आया इस बारे में अपने तरीके से लिखूंगी .
    समय की टिप्पणी को मेरी टिप्पणी समझा जाये.

    उत्तर देंहटाएं
  34. आत्मा का विचार सबसे प्राचीन है, आदिमकालीन। इसी से हर भौतिक वस्तुओं में आत्मा, देवत्वरोपण, ईश्वर, परमआत्मा आदि-आदि की संकल्पनाएं पैदा हुईं। पुनर्जन्म की अवधारणा का अविष्कार तो इनके सापेक्ष काफ़ी आधुनिक है। हमारे यहां वेदों के समय तक यह पैदा नहीं हुई थी।

    अगर आप ऐतिहासिक पृष्ठभूमि के साथ इसे देखेंगे तब पता पड़ेगा कि इस अवधारणा की उत्पत्ति, लगभग राज्यों और उनके शोषण की उत्पत्ति के साथ-साथ हुई।

    यदि आत्मा है, तो ईश्वर है, चेतना से पदार्थ की उत्पत्ति है, भूत-प्रेत हैं, जादू-चमत्कार हैं, पुनर्जन्म है, सारी भूल-भुलैयाएं हैं।

    इसलिए आत्मा के प्रश्न से जूझना सबसे प्राथमिक है। आप आत्मा के अस्तित्व के सवाल को स्थगित रखकर या अभी संदेह में रखकर, बाकी की बातों के लिए तर्कों के जरिए पुरजोर लड़ाई नहीं लड़ सकते।

    विज्ञान की उत्पत्ति के समय ही सर्वप्रथम उसकी उर्जा इन्हीं सब के अस्तित्व को टटोलने में ज्यादा खर्च हुई थी, इसे ऐसे भी कह सकते है पदार्थ और चेतना के संबंधों को समझने के इन प्रयासों से ही विज्ञान की उत्पत्ति हुई थी।

    - एक- एक शब्द से सहमत हूँ. और जवाब आपेक्षित है की क्यों विज्ञान के मंच पर आदिमकनिल बातों को सही (मान लिया जाये ) कह कर बात आगे बढ़ाई जा रही है ? अब वक्त है इनपर सीधा प्रहार किया जाए ..न जाने कब भारतीय जनमानष इन बेकार की बातों में उलझा रहेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  35. गीता में श्री कृष्ण ने कहा है-
    नैनं छिदंति शस्त्राणि,नैनं दहति पावकः ,
    न चैनं क्लेदयांत्यापोह,न शोशियती मारुतः ......................
    यानि आत्मा अमर है।
    तो प्रश्न उठता है कि इन आत्माओं का स्वरुप क्या होता है, क्या यह फिर किसी नए शरीर में आती है, कर्म का हिसाब चुकाने के लिए क्या आत्मा नए-नए रूपों में जन्म लेती रहती है? हाँ- तो यही है पुनर्जन्म!
    जितने लोग उतने विचार...
    सामान्य धरातल पर मुझे विश्वास है, आत्मा नए शारीरिक परिधान में पुनः हमारे बीच आती है। अगर सतयुग, द्वापरयुग सत्य है तो यह भी सत्य है कि आत्मा का नाश नही, वह जन्म लेती है। राम ने कृष्ण के रूप में, कौशल्या ने यशोदा, कैकेयी ने देवकी, सीता ने राधा के रूप में क्रमशः जन्म लिया...कहानी यही दर्शाती है, तो इन तथ्यों के
    आधार पर मेरा भी विश्वास इसी में है।

    उत्तर देंहटाएं
  36. @समय के तात्विक विवेचन पर लवली की मुहर और फिर मेरी भी ! वास्तव में आत्मा ,पुनर्जन्म अज्ञानता के शब्दकोश के शब्द हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  37. @समय,

    मुझे आपका अन्दाज़ पसन्द आया। बिल्कुल सटीक और सही उत्तर दिया आपने।

    एक एक शब्द काफी प्रभावशाली, और जानकारी से सम्पूर्ण था, जैसे कि हमारे विज्ञान की पैदाइश कैसे हुई। और आत्मा का जन्म कब और कैसे हुआ

    बहुत खूब भाई,

    उत्तर देंहटाएं
  38. समय,
    मुझे आपका जवाब बहुत पसन्द आया। बिल्कुल सही, सटीक और जानकारी से भरा हुआ उत्तर

    हर शब्द जानकारी से भरपूर !!!

    लाजवाब !!

    वैसे वो सारे खेल भी इस के साथ खत्म हो जयेंगे, कि आत्मा को बुलाना, और वो सब जो तरह तरह के जादू किये जाते हैं। कुछ लोग दावा करते हैं कि वो आत्मा को बुलाते हैं।

    A question to all, I expect there will be a post on this soon as well.

    What is telepathy? is it a science or another superstition?

    If yes, then it can help students a lot in exams..:)

    उत्तर देंहटाएं
  39. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  40. YE CHARCHA ITNI GARMAGARAM HAI KI PADH KAR AANAND AUR GYAAN VARDHAN BHI HO RAHA HAI .......

    उत्तर देंहटाएं
  41. jakir ji namsate ,

    aapko mera dhanyabad .jo aapne mere NGO ko prashnsa kiye,,,
    aapka articale padi bahut achhi hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  42. aapke is blog pe nayi nayi jaankaariyan milti hai hame .gyan se bhara hua .ati sundar lekh .

    उत्तर देंहटाएं
  43. यदि ज्ञानार्जन ही उद्देश्य हो तो कसौटी सीमित नहीं करनी चाहिए..तर्क बहुत सीमा तक संतुष्ट कर देते हैं पर ऐसा जान पड़ता है कि तर्क स्वयं में सम्पूर्ण नहीं है,,,एक तर्क की उम्र अगले अच्छे तर्क के आ जाने तक होती है,,,जिस महात्मा बुद्ध के बारे में कहा गया कि उन्होंने आत्मा के अस्तित्व पर सवाल उठाया था उन्होंने ही आनंद से कहा था कि 'जहाँ तर्क है, वहां ज्ञान नहीं है'.. (संभव है मुझसे अर्थान्वयन में चूक हो रही हो.) जातक कथाएँ भी महात्मा बुद्ध की बड़ी लोकप्रिय रहीं हैं..बिना आत्मा जैसी किसी चीज के ये संभव कैसे होगा..महाभारत में योगेश्वर श्रीकृष्ण परम ज्ञानी व तर्कशास्त्र में निपुण माने जाते हैं उन्होंने गीता में आत्मा के अस्तित्व को स्वीकार किया..मै मानता हूँ यह कोई प्रमाण नहीं पर ; एक जिज्ञासु की भांती मै किसी एक मत को पूरी तरह खारिज करने का साहस नहीं जुटा पा रहा हूँ. .ज्ञान का केवल एक आधार 'तर्क' नहीं हो सकता. कुछ एहसासों को आप कैसे तौलेंगे..क्या तर्कों से..दरअसल मुझे लगता है कुछ विषय ऐसे हैं जहाँ आप सिर्फ तर्कों से उत्तर कभी नहीं पा सकते, ना ही अब तक पाया जा सका है. मै स्वयं अज्ञानी हूँ, खोज में ही हूँ....पर मुझे लगता है सहिष्णु होकर सभी संभावनाओं पर विचार करना चाहिए,,,मै जो कहना चाहता हूँ, शायद 'शब्द' काफी नहीं..मै कैसे भूला दूं, मेरे गांव में ही ऐसी घटना हुई थी, एक सायकोलोजी के प्रोफ़ेसर ने उसकी ताकीद की थी. उस ११ साल की बच्ची ने अपना पुराना ठिकाना खोज लिया , अपने बच्चों से मिल आयी, पुराने छप्पर से ५ रुपये का नोट निकाल दिखाया भी....अब वो बड़ी हो चुकी है, उसकी शादी भी हो चुकी है..और हाँ अब उसे कुछ याद नहीं...मै स्वयं उलझन में हूँ, मै कुछ स्थापित नहीं करना चाहता...मुझे जो पता था ईमानदारी से रख दिया है...सच तो मै भी जानना चाहता हूँ,,,किसी पक्ष के भी तर्क मुझे आसानी से पचते नहीं....विज्ञान का विद्यार्थी रहा हूँ, (मान लेता हूँ, महज विद्यार्थी होने से सब कुछ नहीं हो जाता.)..पर आप सभी महानुभावों से एक अनुरोध है....आप शोध करें,,अनुभव लिखें....पर कृपा करके....कोई value-judgement नहीं दें......मुझे जो समझ आया मैंने लिखा है,,,माफ़ करेंगे यदि ठीक ना लगा हो....लिखने के पीछे मंसा आप लोगों से मार्गदर्शन की ही है.....

    उत्तर देंहटाएं
  44. Zakirji,
    aap ne apni samaz se jo samja ya apne shri kovoor ji ki samaz se jo samza wo likh diya. Aap kehta hai ki keval sharir hi hota hai aur aatma kuch nahi hoti hai. sharir hi sab kaam karta hai, jaise khana, chalna, likhna. thik hai.
    Mein aapse poochta hoon yadi koi aadmi heart failure ke karan mar jata ya ye kahe ki uske sharir ne kaam karna band kar diya to kya uske sharir mein aapka science heart or mind transplant kar ke use dobara jivit kar sakta hai kyonki sharir hi sab kuch hota hai to phir to parts badal dene par sharir phir se kaam karne lag jana chaaiye. Lekin nahin sirji, aisa nahin hota.
    Ye aatma hi hai jo iss sharir ko urjavan banati hai aur chalne ya kuch karne ki shakti deti hai varna to sharir bhi ek machine ki tarah hi hona chaiye, part kharab ho gaya badlo aur chalo kaam par.
    jyada advance hona aur baat hai aur dikhana aur baat.
    Thank you

    उत्तर देंहटाएं
  45. डॉ . विष्णु कुमार शुक्ला11/03/2016 8:24 pm

    मै आपकी बात से पूरी तरह से सहमत नहीं हूं। लेकिन आप सत्य की खोज कर रहे है। तो बहुत सरहनीय है। मेरा मानना है कि यदि पुनर्जन्म नहीं होता तो हमारे अस्तित्व का क्या होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  46. बेनामी5/22/2017 2:31 pm

    Galat baat hai ek ladki Jo america me rahati hai vo kahati hai ki uska janam Gujarat me hua tha uski baat bhi sach nikali uske mutabik vah km si shah parvaar me janmi thi to kya vah ladki Gujarat akar uski jaan kari lake hai hogi lakin usne to kabhi dekha hi nahi tha ab aap bataye

    उत्तर देंहटाएं
  47. और आगे चलियें अपनी भौतिकवादी सोच से ,शायद पुनर्जन्म का जवाब मिल जाय |क्वांटम फिजिक्स पढिये ,आइंस्टीन की थ्योरी पढिये |मेरे पास जवाब है ,पर मैं उसका ज्ञान सार्वजानिक नही करना चाहता

    उत्तर देंहटाएं
वैज्ञानिक चेतना को समर्पित इस यज्ञ में आपकी आहुति (टिप्पणी) के लिए अग्रिम धन्यवाद। आशा है आपका यह स्नेहभाव सदैव बना रहेगा।

नाम

अंतरिक्ष युद्ध,1,अंतर्राष्‍ट्रीय ब्‍लॉगर सम्‍मेलन,1,अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी ब्लॉगर सम्मेलन-2012,1,अतिथि लेखक,2,अन्‍तर्राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन,1,आजीवन सदस्यता विजेता,1,आटिज्‍म,1,आदिम जनजाति,1,इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी,1,इग्‍नू,1,इच्छा मृत्यु,1,इलेक्ट्रानिकी आपके लिए,1,इलैक्ट्रिक करेंट,1,ईको फ्रैंडली पटाखे,1,एंटी वेनम,2,एक्सोलोटल लार्वा,1,एड्स अनुदान,1,एड्स का खेल,1,एन सी एस टी सी,1,कवक,1,किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज,1,कृत्रिम मांस,1,कृत्रिम वर्षा,1,कैलाश वाजपेयी,1,कोबरा,1,कौमार्य की चाहत,1,क्‍लाउड सीडिंग,1,क्षेत्रीय भाषाओं में विज्ञान कथा लेखन,9,खगोल विज्ञान,2,खाद्य पदार्थों की तासीर,1,खाप पंचायत,1,गुफा मानव,1,ग्रीन हाउस गैस,1,चित्र पहेली,201,चीतल,1,चोलानाईकल,1,जन भागीदारी,4,जनसंख्‍या और खाद्यान्‍न समस्‍या,1,जहाँ डॉक्टर न हो,1,जादुई गणित,1,जितेन्‍द्र चौधरी जीतू,1,जी0 एम0 फ़सलें,1,जीवन की खोज,1,जेनेटिक फसलों के दुष्‍प्रभाव,1,जॉय एडम्सन,1,ज्योतिर्विज्ञान,1,ज्योतिष,1,ज्योतिष और विज्ञान,1,ठण्‍ड का आनंद,1,डॉ0 मनोज पटैरिया,1,तस्‍लीम विज्ञान गौरव सम्‍मान,1,द लिविंग फ्लेम,1,दकियानूसी सोच,1,दि इंटरप्रिटेशन ऑफ ड्रीम्स,1,दिल और दिमाग,1,दिव्य शक्ति,1,दुआ-तावीज,2,दैनिक जागरण,1,धुम्रपान निषेध,1,नई पहल,1,नारायण बारेठ,1,नारीवाद,3,निस्‍केयर,1,पटाखों से जलने पर क्‍या करें,1,पर्यावरण और हम,8,पीपुल्‍स समाचार,1,पुनर्जन्म,1,पृथ्‍वी दिवस,1,प्‍यार और मस्तिष्‍क,1,प्रकृति और हम,12,प्रदूषण,1,प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड,1,प्‍लांट हेल्‍थ क्‍लीनिक,1,प्लाज्मा,1,प्लेटलेटस,1,बचपन,1,बलात्‍कार और समाज,1,बाल साहित्‍य में नवलेखन,2,बाल सुरक्षा,1,बी0 प्रेमानन्‍द,5,बीबीसी,1,बैक्‍टीरिया,1,बॉडी स्कैनर,1,ब्रह्माण्‍ड में जीवन,1,ब्लॉग चर्चा,4,ब्‍लॉग्‍स इन मीडिया,1,भारत के महान वैज्ञानिक हरगोविंद खुराना,1,भारत डोगरा,1,भारत सरकार छात्रवृत्ति योजना,1,मंत्रों की अलौकिक शक्ति,1,मनु स्मृति,1,मनोज कुमार पाण्‍डेय,1,मलेरिया की औषधि,1,महाभारत,1,महामहिम राज्‍यपाल जी श्री राम नरेश यादव,1,महाविस्फोट,1,मानवजनित प्रदूषण,1,मिलावटी खून,1,मेरा पन्‍ना,1,युग दधीचि,1,यौन उत्पीड़न,1,यौन शिक्षा,1,यौन शोषण,1,रंगों की फुहार,1,रक्त,1,राष्ट्रीय पक्षी मोर,1,रूहानी ताकत,1,रेड-व्हाइट ब्लड सेल्स,1,लाइट हाउस,1,लोकार्पण समारोह,1,विज्ञान कथा,1,विज्ञान दिवस,2,विज्ञान संचार,1,विश्व एड्स दिवस,1,विषाणु,1,वैज्ञानिक मनोवृत्ति,1,शाकाहार/मांसाहार,1,शिवम मिश्र,1,संदीप,1,सगोत्र विवाह के फायदे,1,सत्य साईं बाबा,1,समगोत्री विवाह,1,समाचार पत्रों में ब्‍लॉगर सम्‍मेलन,1,समाज और हम,14,समुद्र मंथन,1,सर्प दंश,2,सर्प संसार,1,सर्वबाधा निवारण यंत्र,1,सर्वाधिक प्रदूशित शहर,1,सल्फाइड,1,सांप,1,सांप झाड़ने का मंत्र,1,साइंस ब्‍लॉगिंग कार्यशाला,10,साइक्लिंग का महत्‍व,1,सामाजिक चेतना,1,सुपर ह्यूमन,1,सुरक्षित दीपावली,1,सूत्रकृमि,1,सूर्य ग्रहण,1,स्‍कूल,1,स्टार वार,1,स्टीरॉयड,1,स्‍वाइन फ्लू,2,स्वास्थ्य चेतना,15,हठयोग,1,होलिका दहन,1,‍होली की मस्‍ती,1,Abhishap,4,abraham t kovoor,7,Agriculture,7,AISECT,11,Ank Vidhya,1,antibiotics,1,antivenom,3,apj,1,arshia science fiction,2,AS,26,ASDR,7,B. Premanand,6,Bal Kahani Lekhan Karyashala,1,Balsahitya men Navlekhan,2,Bharat Dogra,1,Bhoot Pret,7,Blogging,1,Bobs Award 2013,2,Books,55,Born Free,1,Bushra Alvera,1,Butterfly Fish,1,Chaetodon Auriga,1,Challenges,9,Chamatkar,1,Child Crisis,4,Children Science Fiction,1,CJ,1,current,1,D S Research Centre,1,DDM,4,dinesh-mishra,2,DM,6,Dr. Prashant Arya,1,dream analysis,1,Duwa taveez,1,Duwa-taveez,1,Earth,43,Earth Day,1,eco friendly crackers,1,Education,3,Electric Curent,1,electricfish,1,Elsa,1,Environment,30,Featured,5,flehmen response,1,Gansh Utsav,1,Government Scholarships,1,Great Indian Scientist Hargobind Khorana,1,Green House effect,1,Guest Article,5,Hast Rekha,1,Hathyog,1,Health,62,Health and Food,5,Health and Medicine,1,Healthy Foods,2,Hindi Vibhag,1,human,1,Human behavior,1,humancurrent,1,IBC,5,Indira Gandhi Rajbhasha Puraskar,1,International Bloggers Conference,5,Invention,9,Irfan Hyuman,1,ISRO,5,jacobson organ,1,Jadu Tona,3,Joy Adamson,1,julian assange,1,jyotirvigyan,1,Jyotish,11,Kaal Sarp Dosha Mantra,1,Kaal Sarp Yog Remady,1,Kranti Trivedi Smrati Diwas,1,lady wonder horse,1,Lal Kitab,1,Legends,13,life,2,Love at first site,1,Lucknow University,1,Magic Tricks,10,Magic Tricks in Hindi,10,magic-tricks,9,malaria mosquito,1,malaria prevention,1,man and electric,1,Manjit Singh Boparai,1,mansik bhram,1,media coverage,1,Meditation,1,Mental disease,1,MK,3,MMG,6,MS,3,mystery,1,Myth and Science,2,Nai Pahel,8,National Book Trust,3,Natural therapy,2,NCSTC,2,New Technology,9,NKG,71,Nobel Prize,7,Nuclear Energy,1,Nuclear Reactor,1,OPK,2,Opportunity,9,Otizm,1,paradise fish,1,personality development,1,PK,20,Plant health clinic,1,Power of Tantra-mantra,1,psychology of domestic violence,1,Punarjanm,1,Putra Prapti Mantra,1,Rajiv Gandhi Rashtriya Gyan Vigyan Puraskar,1,Report,9,Researches,2,RR,2,SBWG,3,SBWR,5,SBWS,3,Science and Technology,5,science blogging workshop,22,Science Blogs,1,Science Books,55,Science communication,20,Science Communication Through Blog Writing,7,Science Congress,1,Science Fiction,9,Science Fiction Articles,5,Science Fiction Books,5,Science Fiction Conference,8,Science Fiction Writing in Regional Languages,11,Science Times News and Views,2,science-books,1,science-puzzle,44,Scientific Awareness,5,Scientist,36,SCS,7,SD,4,secrets of octopus paul,1,sexual harassment,1,shirish-khare,4,SKS,11,SN,1,Social Challenge,1,Solar Eclipse,1,Steroid,1,Succesfull Treatment of Cancer,1,superpowers,1,Superstitions,49,Tantra-mantra,19,Tarak Bharti Prakashan,1,The interpretation of dreams,2,Tips,1,Tona Totka,3,tsaliim,9,Universe,25,Vigyan Prasar,31,Vishnu Prashad Chaturvedi,1,VPC,4,VS,6,Washikaran Mantra,1,Where There is No Doctor,1,wikileaks,1,Wildlife,12,zakir science fiction,1,
ltr
item
Scientific World: क्या पुनर्जन्म सम्भव है? एक बेबाक विश्लेषण।
क्या पुनर्जन्म सम्भव है? एक बेबाक विश्लेषण।
Scientific World
https://www.scientificworld.in/2009/09/blog-post_27.html
https://www.scientificworld.in/
https://www.scientificworld.in/
https://www.scientificworld.in/2009/09/blog-post_27.html
true
3850451451784414859
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy