क्‍या मेरे शरीर में बिजली बन रही है?

SHARE:

नहीं, मैं आपको इस चीज की इजाजत बिलकुल नहीं दूंगा कि आप मेरे बारे में कुछ ऐसा-वैसा सोंचे। इससे पहले किआपके दिमाग में कोई और विचार आए, मैं आपक...

नहीं, मैं आपको इस चीज की इजाजत बिलकुल नहीं दूंगा कि आप मेरे बारे में कुछ ऐसा-वैसा सोंचे। इससे पहले किआपके दिमाग में कोई और विचार आए, मैं आपका बता देना चाहता हूं कि मैं एक शुद्ध शाकाहारी व्यक्ति हूं औरशराब वगैरह तो दूर, पान मसाला, बीडी, सिगरेट से भी दूर रहता हूं। ...और मेरे जानकारों के अनुसार मेरा दिमागीसंतुलन भी फिलहाल ठीक-ठाक है।

हॉं, तो अब आता हूं मुददे की बात पर। मैंने पिछले जून में लखन
की वृन्दावन उपनगरी में अपना एक छोटासा आशियाना बनवाया है, जिसका नाम है 'अहल रामिश विला'। यह नाम मैंने अपने बेटों अहल और रामिश केनाम पर रखा है। मैं पिछली जून से इस नवनिर्मित मकान में रह रहा हूं। लेकिन पिछले एक दो महीनों से मुझे एकअजीगो गरीब अनुभव हो रहा है। अक्सर अपने घर में दरवाजे, गेट, नल की टोटियॉं और यहॉं तक की अलमारी कोछूने पर हल्का झटका सा लगता है। शाम के समय और रात के वक्त मैंने ध्यान से देखा है कि इस दौरान छोटी सीचमक जैसी भी निकलती है। यह क्रिया बार-बार नहीं होती है, लेकिन दिन में एक-दो बार और कभी-कभी तोतीन-चार बार होती है। जैसे ही मैं लोहे की कोई वस्तु छूता हूं, तो मुझे एक हल्का सा झटका लगता है और रौशनी कीएक किरण मेरी आंखों के सामने कौंध जाती है। लेकिन उसके बाद तुरन्त उसी वस्तु को छूने पर फिर कुछ नहींहोता। कई बार तो ऐसा हुआ कि मैं अपने छोटे बेटे रामिश को गोद में लिये हुए था, तब मुझे ऐसा हुआ। लेकिनइसके बावजूद उसे कुछ नहीं हुआ। वह एकदम सामान्य रहा।

शुरू-शुरू में जब मैंने अपनी पत्नी को यह बताया तो उन्हें लगा कि मैं मजाक कर रहा हूं, पर जब यह लगातार होनेलगा, तो उते भी चिन्ता हो रही है। मैंने अपने दोस्तों से इसकी चर्चा की, तो उन्होंने कहा कि हो सकता है कि कहींवायरिंग में कोई प्राब्लम हो और तार अर्थिंग ले रहे हों। लेकिन सवाल यह है कि अगर ऐसा है, तो यह करंट बार-बारक्यों नहीं लगता और उससे भी बडा सवाल यह है कि सिर्फ मुझे ही क्यों करंट लगता है। मेरे अलावा, मेरी पत्नी औरदो बच्चे हैं उस घर में और उन्हें कभी ऐसा अनुभव नहीं हुआ।

अभी परसों की ही बात है। जब मैंने इस बात की चर्चा अपनी पत्नी से की, तो वो बोली- आपके शरीर में बिजली तो नहीं बनने लगी?

हालॉंकि उसने यह बात मजाक में कही है, पर मुझे भी कुछ ऐसा ही लग रहा है। मैंने इस विषय में काफीसोचा-विचारा, पर कुछ समझ में नहीं आ रहा। अब तो आप ही लोग लोग बताऍं कि ये क्या मामला हो सकता हैऔर मुझे इस मामले में क्या करना चाहिए?
‍ ‍ ‍‍‍ ‍‍ ‍‍ ‍‍‍ ‍‍‍ ‍ ‍‍‍ ‍‍‍
-जाकिर अली 'रजनीश'

COMMENTS

BLOGGER: 81
  1. यह तो बहुत गम्‍भीर मामला है। मेरी समझ से विज्ञान के एक्‍सपर्ट ही इसमें कोई सलाह दे सकते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  2. ठीक से याद नहीं मगर कुछ समय पहले इसी तरह का एक प्रोग्राम टीवी पर देखा था....ये बेहद चिंतनीय विषय है ......समय न गवाएं और डॉक्टर या विशेषग्य से सलाह करे.."

    Regards

    जवाब देंहटाएं
  3. स्टेटिक इलेक्ट्रिसिटी का मसला मालूम पड़ता है और अक्सर जगह विशेष से संबंधित रहता है-इस दिशा में ध्यान दें.

    जवाब देंहटाएं
  4. सीमा जी एवं दिनेस जी की सलाह का अनुमोदन करती हूँ. तुरत विशेषज्ञ से सलाह करें

    जवाब देंहटाएं
  5. का`भी कभी ऐसा हमारे साथ भी हुआ है पर किसी स्थान विशेष पर हमेशा हो ऐसा तो समझ में नहीं आता.
    वैसे हम सब के शरीर में चार्ज रहता ही है ये हम सब को पता है आपके शरीर में जो कुछ भी ........................................
    ओह हम आपको क्या बताने लग गए आप खुद अच्छे से जानते हैं हम तो इंतज़ार करेंगे कि आप इस घटना के वैज्ञानिक विश्लेषण से हम सब का ज्ञानवर्धन करें

    जवाब देंहटाएं
  6. बेनामी4/06/2009 11:48 am

    Its just a static charge. Its stays on your body since often you are wearing a non-conductive foot wear. Also the air around you is pretty dry due to increased day temperature. Nothing serious, but be careful when you try to touch gas/petrol tank in yr car/scooter/bike. Better touch something else before to ground all the charge.

    जवाब देंहटाएं
  7. मभी इस हालत से गुजर रहे है जी.....वैसे भी अनाम भाई से ठीक कहा है.....मस्त रहिये...

    जवाब देंहटाएं
  8. फिलहाल अभी तक तो ऐसा नहीं हुआ है । हो सकता है कहीं से बिजली के तार वगैरह कटे हो या ाप नंगे पैर छूते हो ।

    जवाब देंहटाएं
  9. जाकिर अली रजनीश4/06/2009 1:45 pm

    आप लोगों के विचारों के लिए आभारी हूं। एक बात जो मैं बताना भूल गया वह यह कि मैं घर में नंगे पैर कभी नहीं रहता। हमेशा रबर/फाइबर के चप्‍पल पहनता हूं। इसके बावजूद यह कैसे हो रहा है, यह समझ में नहीं आ रहा।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Bhai mai bhi bhut presaan hu.... Pls mujhe bhi kuch suggest kro

      हटाएं
    2. Bhai mai bhi bhut presaan hu.... Pls mujhe bhi kuch suggest kro

      हटाएं
    3. बेनामी3/20/2018 12:48 pm

      यही same चीज मेरे साथ होता है जब बी मैं अपने आफिस में चेयर पे बैठता हु और जब uath जाता हूं तो मुझे भी झटका लगता है या जो मुझे टच करता है उसको लगता है

      हटाएं
  10. कहीं ज्यादा विज्ञान चिंतन तो इसकी वजह नहीं! वैसे डा0 दिनेश चन्द्र अवस्थी जी की सलाह पर भी ध्यान दें.

    जवाब देंहटाएं
  11. अवस्थी जी की सलाह तो सही है, पर सवाल यह है कि ऐसा एक्सपर्ट कहां मिलेगा?

    जवाब देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  13. और हां हम भी जूते पहने हुये ही यह सब महसूस करते हैं.

    रामराम

    जवाब देंहटाएं
  14. आप नाहक चिंता ना करें अब ताऊ आ गया है आपके पास.

    आप जिस इन-बिल्ट ( जो पावर हाऊस हमारे शरीर मे ) करंट की बात कर रहे हैं वो यह मामला नही है. हमारे शरीर मे ऐसा असंतुलन अक्सर नही हो पाता.

    वैसे केस मे मनुष्य स्वयम ही धू धू करके जल जाता है और ऐसे केस केवल २०० के लगभग आज तक पूरी दुनिया मे हुये हैं. एक मेरे परिचित का केस भी इस किस्म का था पर कई कारणों से उस पर कोई खोज बीन नही हुई सो कह नही सकता.

    अब आप वाली बात पर : यह मामला समीर जी जो कह रहे हैं वही है.

    मुझे खुद को रेफ़्रिजरेटर का हैंडल करंट मारता है और करीब २५ या ३० सालों से.

    दूसरे कार का दरवाजा बंद करते समय बेहतरीन करंट लगता है. शुरु शुरु मे मैने कम्पनी वालों को खूब तपाया कि तुम्हारी कार मे अर्थिंग है. उन्होने काफ़ी खोज बीन के बाद ये फ़ंडा बताया.

    मेरे ठीक सामने डाक्टर शुक्ला रहते हैं. छोटे भाई जैसे हैं और नामी सर्जन हैं. उनको भी यह कार वाला करंट लगता है. हम दोनों साथ जाते हैं तो और ड्राईवर नही हो तो बडी स्टाईल मे टांग से दरवाजा बंद करते हैं.:)

    मेरी पत्नी को भी कुछ सिल्क जैसी साडियों से यह करंट लगता है, इससे अपना फ़ायदा यह है कि महंगी साडीयां का खर्चा खत्म, सूती पहनो मस्त रहो.

    आप बिल्कुल टेंशन ना ले और मस्त रहें.

    जवाब देंहटाएं
  15. इधर आपके भतीजे कह रहे हैं उन्हें भी अक्सर वैसा ही करेंट मारता है जैसा आपको !

    जवाब देंहटाएं
  16. इस में चिंता की कोई बात नहीं है.आप लोहे की वस्तुयों की बात कर रहे हैं देखा गया है ,अकसर दो व्यक्ति अनजाने में छू जाते हैं तो स्पार्क होता है.यह कई लोगों का अनुभव रहा होगा.कई बार शौपिंग करते समय जब आप त्रोल्ले को हाथ लगते हैं तो भी स्पार्क्स होते हैं.मेरे ख्याल से इस में कोई चिंता की बात नहीं है.
    एक बार जी टी वी में एक महिला को दिखाया था जो सिर्फ हाथ रख दें तो १००० वाट का हीटर जल जाता था पंखा चल जाता था..और एक पुरुष जो मिक्सी चला कर दिखा रहे थे.
    मुझे नहीं लगता आप को ऐसी कोई शक्ति मिलने वाली है..:)

    आप ने जो स्थिति बताई है ,वह स्पार्क्स की आम घटनाएँ हैं.

    जवाब देंहटाएं
  17. हमने तो काफ़ी मजा किया इस खेल में . हम प्लास्टिक की कुर्सी पर बैठ जाते , छोटा भाई पीछे कुर्सी को रगड़ते हुए तौलिया मारता . इसके बाद हम किसी को भी कहते कि हमें छुओ तो स्पार्क होता और दोनों को हल्का झटका लगता . बाद में तो हमने दो सेल वाली टॉर्च का बल्ब भी जला कर देखा .

    आपके कपड़ों में समस्या हो सकती है . मजा करिये . और हाँ आपको तस्लीम का महा मन्त्री किसने बना दिया ?

    जवाब देंहटाएं
  18. हमने तो काफ़ी मजा किया इस खेल में . हम प्लास्टिक की कुर्सी पर बैठ जाते , छोटा भाई पीछे कुर्सी को रगड़ते हुए तौलिया मारता . इसके बाद हम किसी को भी कहते कि हमें छुओ तो स्पार्क होता और दोनों को हल्का झटका लगता . बाद में तो हमने दो सेल वाली टॉर्च का बल्ब भी जला कर देखा .

    आपके कपड़ों में समस्या हो सकती है . मजा करिये . और हाँ आपको तस्लीम का महा मन्त्री किसने बना दिया ?

    जवाब देंहटाएं
  19. कोई खास बात नहीं है असल में यह अवरोधित रक्त प्रवाह के कारण कभी-कभी ऐसा हो जाता है ,आप अपने बैठने -उठने की शैली बदलिए और कुछ ब्यायाम करने की आदत डालिए .मेरे एक मित्र को भी ऐसा ही कभी होता था अब वह ठीक है अपने आप .

    जवाब देंहटाएं
  20. बात समझ में आई नहीं। आप की बिजली आप को कैसे करंट मार सकती है। औरों को मारे तब तो बात बनती।

    जवाब देंहटाएं
  21. रतलाम में मेरा घर बिजली के कार्यालय की बगल में था और शुष्क समय में स्टेटिक इलेक्ट्रिसिटी के झटके की बहुधा समस्या होती थी।

    जवाब देंहटाएं
  22. हो सकता है कि ऊपर की गई टिप्पणियों में गुणीजनों ने इस का जो भी कारण बताया है, वो सही हो. किन्तु हमारे लिए तो ये बात बिल्कुल अचंभित करने वाली है.....

    जवाब देंहटाएं
  23. जाकिर यह करेंट मुझे भी लगता है कोइ हल पता चले तो मुझे भी बताइयेगा ....

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. bhai ye maamla mere sath bhi ho raha hai office ke gate kholte samay hame bhi aarthing aati hai

      हटाएं
  24. भाई साहब आप बिलकुल नारमल है, डरे नही, होता है, ऎसा बहुत लोगो के साथ होता है, मेरी पुरे परिवार के संग होता है? जी कारण बिलकुल साफ़ या तो आप के घर मै कलीन बिछा होगा , या फ़िर आप ने ऎसे कपडे पहने होगे जिस मओ पोलियस्ट्र (पलास्टीक) ज्यादा होगा, ओर जब आप उस कलीन पर चलते है या जो कपडे आप ने पहन रखे है वो आपस मै रगड खाते है तो आप के शरीर मै बिजली बन जाती है, ओर जब आप किसी भी चीज को छुने की कोशिश करते है तो एक क्षण के लिये आप को हल्का सा झटका लगता है, एक दिन आप सुती ओर सिर्फ़ सुती कपडे पहन कर देखॊ, ओर उस कलीन पर मत चलो( एक दिन के लिये कलीन के ऊपर कोई चदार बिछा दो फ़िर देखे आप का बिजली घर फ़ेल.
    यह हमारे यहां लगभग सबःइ के संग होता है, जो बिलकुल आम है, इस लिये कोई बहम मन मै ना लाये.

    वेसे आप एक बिजली की तार नाक मै दुसरी कान मै डाल कर अपने घर की बिजली का खर्च बचा सकते है:)
    मै फ़िर से लिख रहा हुं आप कोई वहम मन मै मत पाले किसी को भी दिखाने की जरुरत नही,अगर पेसा ही बरबाद करना है तो अलग बात है, यह सब आम है.
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Sir g aap ki bat sahi hai par aap jaisa bata rahe hai waisa nahi hai karant Lagta hai mujhe bhi par jo aap bata rahe hai kapde to waisa nahi hai

      हटाएं
  25. भाई ये तो मेरे साथ बचपन से होता है, आपका वाक़या पढ़ा तो पहली बार खुलासा कर रहा हूं।
    नार्मल हूं। इस बात को भी नार्मल ही समझता हूं। कई और लोगों से भी सुना कि अरे यार, चिंगारी निकल गई...

    जवाब देंहटाएं
  26. रजनीश जी
    ऐसा संभव है की बिजली स्टोर हो रही हो मेरे
    एक मित्र मनीष सेठ के साथ यही होता है
    किन्तु जैसा कि पूर्व टिप्पणी में दर्ज
    है कि प्लास्टिक-कुर्सी पर बैठने से
    ऐसा होता है. यह सही है फिर भी
    मेडिकल टेस्ट ज़रूरी है

    जवाब देंहटाएं
  27. हास्यास्पद! राज भाटिया जी का वर्णन ठीक है। ऊनी या कृत्रिम रेशे (पौलियेस्टर) से बने कपड़े पहनने पर अकसर ऐसा होता है। सिर्फ सूती कपड़े पहनें। पैरों में रबड़ की चप्पल पहनने से इसकी संभावना कम हो जाती है।

    जवाब देंहटाएं
  28. अरे भई हम्से पूछ लिया होता, क्या है न कि आपने नया घर बनवाया है तो अभी नमी बाकी है सो अर्थिंग की प्राबल्म रहती है, मेरे साथ भी हुई है, साल भर रहेगी नहीं तो आप 7-8 हज़ार का जुगाड़ करके अर्थिंग बनवा ही डालो!

    ---

    जवाब देंहटाएं
  29. अच्‍छा तो ये मसला है
    कई बार अक्‍सर ऐसा होता हे ये मेरे साथ भी कई बार हुआ है मैं धर्मशाला हिमाचल में अपने आफिस में अक्‍सर इस तरह से करंट खा चुका हूं जब भी मैं गेट खोलता तो ऐसे ही करंट सा लगता था फिर मैंने अपने गेट के हैंडल पर कागज चिपका दिए और ऊपर से टेप लगा दी फिर कभी करंट नहीं लगा आप भी कागज चिपका लो सभी हैंडलस पर

    जवाब देंहटाएं
  30. Zaakir Ali Rajnish4/07/2009 2:30 pm

    Aap logon ke Anmol Sujhaavon ko padh kar gadgad hoon. Aap sab ne tarah tarah ke sujhav diye hain, in sabke jawab dena chaahta hoon, par pahli baat aise cyber cafe men hoon, jo mari si dasaa men hai, doosri baat aaj raat ko DELHI nikalna hai, Kal MAHAMAHIM RASTRAPATI Ji se bhent hai. So Delhi se lautkar is par ek badi si post hi likhoonga.

    जवाब देंहटाएं
  31. भाई रजनीश जी आप मजे ले रहे हो । इस तरह कि बातों को बताया नही करते । अगर कही किसी विधुत विभाग वाले ने सुन लिया तो आपसे शुल्क वसूल करना शुरू कर देंगे । यह पहला रोग है जिसके बढ़ने मे फायदा नजर आ रहा है । सोचिये आप अपने लैप टोप,मोबाइल आदि को कही भी नोन स्टाप इस्तेमाल कर पायेंगे । अगर ज्यादा चिन्ता सता रही है तो राज भाटिया जी कि तरह मै भी यही कहूंगा कि यह सब नोरमल है । इतनी टिप्पणियां पढकर आप को भी समझ मे आ गया होगा ।

    जवाब देंहटाएं
  32. कहीं आप ऑफिस में या कहीं और लगातार प्लास्टिक की कुर्सी पर तो नहीं बैठते ....शायद इस वजह से हो

    जवाब देंहटाएं
  33. बेनामी4/07/2009 8:53 pm

    डाक्टर को दिखाइए , कहते है कोहनी के पास नस जब मोटी सी हो जाती है तब भी करेंट महसूस होता है . मेने एक डाक्टर से सुना ही है आगे डाक्टर जाने

    जवाब देंहटाएं
  34. बेनामी4/08/2009 12:22 pm

    Dear Zakir,

    Can we meet somewhere today?

    shamim uddin

    जवाब देंहटाएं
  35. ऐसा मेरे साथ अक्सर होता है जब्में कोई खास स्वेटर पहनता हूँ या किसी खास कुर्सी में बैठता हूँ. किसी-किसी की देह में स्थतिज विद्युत् आवेश आ जाता है, यह असुविधाजनक और असामान्य तो है लेकिन खतरनाक नहीं.

    जवाब देंहटाएं
  36. नमस्ते जी..
    जी हा शरीर मे उर्जा बनती है, उसमे विद्युत उर्जा का निर्माण भी होता है. डिसेक्शन के समय मेंढक के शरिरसे निर्माण होनेवाली उर्जा वोल्ट्मीटर के सहाय्यतासे गीनी भी जा सकती है. कुछ मछलियोंके आखोसे निर्माण होनेवाले विद्युत उर्जासे पानीमे बिजली जैसी चमक निर्माण होती है. अगर ईस चीजसे आपको परेशानी हो रही है तो खानेमे क्षार यानेकी साल्ट, खट्टी चीजे कम करे,एवं हमेशा हाथमे चांदीमे गुंफ़ी रुद्राक्ष माला पहने.आप अगर योग साधना करे तो तेज निर्माणसे आपको बहोत लाभ हो सकता है.धन्यवाद!!

    जवाब देंहटाएं
  37. विज्ञान के एक्‍सपर्ट ही कोई सलाह दे सकते हैं.

    जवाब देंहटाएं
  38. अरे रजनीश जी

    आप इस बात को लेकर जरा भी चिंतित न हों ! मैं कई सालों से यह करेंट झेल रहा हूँ !
    जो लोग कंप्यूटर पर ज्यादा काम करते हैं उनके साथ ऐसा हो सकता है ! सबके साथ ऐसा हो यह जरूरी नहीं है ! इसका इसके शिकार १०० में कोई एक होता है ! (ऐसा मैंने कहीं पढ़ा था )

    मैं अपने अलावा ऐसे 2 और लोगों को भी जानता हूँ जिन्हें कोई भी लोहे की चीज छूने से करेंट लगता है ! एक तो मेरे अजीज दोस्त खान साहब हैं जो कि कंप्यूटर हार्डवेयर इंजीनिअर हैं और एक कमल लाला हैं जो कि टी० वी० मैकेनिक हैं ! पहले मैं भी बहुत परेशान हो गया था ........फिर इस कदर आदी हो गया कि करेंट न लगने पर चौंक जाता था !

    इधर समय की कमी की वजह से मैं कंप्यूटर पर बहुत कम काम कर पाता हूँ तो करेंट लगने की शिकायत अपने आप ख़तम हो गयी है !

    आप भी कुछ दिन कंप्यूटर से दूर रहकर देखिये !

    अगर घर के सभी लोगों के साथ ऐसा हो कि लोहे का गेट या नल इत्यादि छूने पर करेंट लगे तो घर की मेन वायरिंग के न्यूट्रल वायर में कार्बन जमने से ऐसा हो जाता है !
    (भैया यह भी स्टेटमेंट पड़ोस के एक बंगले में इसी तरह की घटना पर इलेक्ट्रीशियन ने दिया था)

    जवाब देंहटाएं
  39. bhai aap jo bol rahe he vo mere sath bhi hota he lekinme jab jute pahne hota hu tab hota he or aap kisi lohe ki chij ki bat karre he me to kisi inshan ko bhi chuta hu to mujhe or use dono ko carent lagta he lekin isme ek bat or heki me jute pahna hu or kurshi par beta hu tab hi carrent banega or charj rahega ahi to nahi rahega or ek bar hi jhatka lagta he fir samanya ho jata he jab tak kurchi par naa vapash beth ke uthu

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Sudhir dahiya4/13/2018 10:17 pm

      Ek dum right aisa sirf humare shoes naylon k kapde pehnne se or plastic ki kursi par bath k uthne me lagta h

      हटाएं
  40. Mere sarir me winter session me current banta hai, main ghar me slipper pahanta hu,us wakt agar main nal ya lohe ka saman chu lu ta current nikale ke sath halki si chamak banti hai.agar koi dusra mujhe chu le to use bhi current lagta hai.par agar main khali pair rahu to nahi hota

    जवाब देंहटाएं
  41. मुझे कार से कंरट लगता है

    जवाब देंहटाएं
  42. I am a Proffessor in a College and highly educated also and believe this is true that the current
    (Electricity) is created in in body.
    I myself experincing the shock.
    My family member also get sometime the minor shock from my body.
    I get the shock from steel things and even wood things also.
    Sunil Dabhade 9850952698
    email sdbirbal91@gmail.com.
    Date 13 March,2017


    जवाब देंहटाएं
  43. यह मेरे साथ भी हो रहा है बिलकुल इसी तरह से यहाँ तक की यदि मै तौलिया या कोई ओर कपड़ा उठाने जाऊँ तो भी ऐसा हो जाता है कोई ईलाज संभव हो तो मुझे जरुर बताएँ आपकी कृपा होगी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Sudhir dahiya4/13/2018 10:19 pm

      I think bro apne shoes change kijiye or dusra jayada derr plastic ki kursi pe na bathe or bathe to aage ki taref kisi tabel ka sahara le kar bathe

      हटाएं
  44. भाई साहब मैं भी इस समस्या से परेसान हू आज 3 माह हो गये दिन में 3-4 बार मुझे भी झटका लगता है जैसे कोई दिवाल टच करने पर किसी का शर्ट छूने पर मोबाईल छूने पर पानी की टोटी छूने पर
    मैं आज यही नेट पर ढूढ रहा हू क्यो होता ह

    जवाब देंहटाएं
  45. Bhai yah mere sath bhi ho raha hai ,ghar k bahar kuchh din gujare fir soche ki ghar me ho raha ki sab jagah, sofa k cover, bedsheets, &
    Curten badale, ghar me nange paav rahe.

    जवाब देंहटाएं
  46. बेनामी5/05/2017 4:39 pm

    sabse pahle ap apne man se chinta hata dijiye.ye ek urja shkti ka pramad hai.jo sirf sacchhai se ati hai.bus positive sochye sub acha hoga .

    जवाब देंहटाएं
  47. मेरे साथ भी ऐसा होता । दिन 10-12 बार होता है किसी को छूने या प्लास्टिक लकड़ी और तो और मिट्टी के सामान छूने पर भी ऐसा होता है।

    जवाब देंहटाएं
  48. Mere sath bhi ye same condition ho chuka hai. Isi month Mai apne friends k sath leh-ladakh ki trip pe tha ... 2 June 2017 se 13 Jun 2017 tak ... Isse pahle ye current wali baat mere se kbhi nhi hui thi par mere pahado pe jate hi mujhe kisi bhi chij ko chhune se current Ka anubhav hota tha even mere friends ko bhi kbhi Mai chhuta to unhe bhi feel hota tha... Water bottle, traveller vehicle, bag, cloth, even friends ko bhi chhune se ... Kbhi kbhi to bohot tej awaj aati thi ... Something chutttttt.... Jaisa current lagne pe awaj aati hai... Aur ye sabse jyada mere sath tha.... Par ab Mai Lucknow wapas aa chuka Hun waha se lautne pe ek baar bhi aisa nhi hua... Isliye mujhe lagta hai place ki problem....

    जवाब देंहटाएं
  49. बेनामी8/10/2017 8:27 am

    bhai chinta na karo ye super natural power hai😂😂😂😂😂😂

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मुझे दूसरे लोगो को छूने से करन्ट लगता है क्यों

      हटाएं
  50. बेनामी12/09/2017 4:44 pm

    kya aap dhyan karte hain

    जवाब देंहटाएं
  51. में भी ऐसी समस्या से पिछले एक दो महीनों से ग्रसित हु
    में आप के कमेंट देख के एक बात बताना चाहता हु की अक्सर ऐसा होता है जैसे प्लास्टिक की कुर्सी पर बैठे रहने के बाद अचानक खड़ा होकर हैम किसी गेट या वस्तु को छूते है तो करंट लगता है
    पर ये वो करंट नही है आजकल दिन में 3 या 4 बार से ज्यादा करंट लगता है
    ओर एक बार तो मैने कुछ सेकंड तक करंट को महसूस किया
    आप को इस बारे में ज्यादा जानकारी हो तो मुझे भी बताया

    जवाब देंहटाएं
  52. Sir mere sath bi ye hi ho rha h,bahut presan hu,ganv me dukan chlata hu,kabhi kabhi grhako ko jhtka lgjata h grahk drne lge h

    जवाब देंहटाएं
  53. Mere sath mi pichale kuch dino se ye ho raha hai, lohe ki chiz ko achyank chuta hu to , halkasa zatka lagta hai, agr dubara ushi chiz ko chu to zatka nahi lagta , kay karu samaj me nahi araha hai ...

    जवाब देंहटाएं
  54. आनन्द प्रकाश तिवारी1/29/2018 6:29 pm

    आपने झटके की बात क्या कह दी, 20-25 लोगों ने अपने अनुभव बता दिये। :-)

    जवाब देंहटाएं
  55. मेरे साथ भी इस तरह की दिक्कत आरही है
    यह करंट दिन में ही आता है

    सुबह शाम और रात में नही आता है

    कई बार तो तेज करंट आता है

    किसी दूसरे इंसान के हाथ लगता हूँ तो दोनों को करंट की अनुभूति होती है

    लोहे को स्पर्श करने में बहुत जोर से करंट आता है

    कृपया कोई इलाज बताये

    बहुत परेशान हु

    जवाब देंहटाएं
  56. बेनामी2/06/2018 2:27 pm

    15 20 साल पहले गोरखपुर brd मेडिकल में एक एक्सिडेंट का केस आया था,,उससमय भाटपार रानी के विधायक काआमेश्वर उपाध्याय थे,वो व्यक्ति उनके भाई जितेंद्र उपाध्याय का ड्राइवर था । घटना उस एक्सीडेंट के बाद कि है जब उसको हॉस्पिटल ले जाया गया तो कोई भी उसको टच करता था तो उसे करंट महसूस होता था,डॉक्टर्स भी थोड़ी देर अवाक थे फिर उनलोगों ने करंट से बचने के उपाय अपना कर उस व्यक्ति का इलाज किया , सबने अनुमान लगाया कि शरीर मे कुछ ऐसा होता है जो विद्धुत करेंट पैदा करता है कुछ डिस्टर्बेंस की वजह से वो वातावरण से प्रभावित हुआ और सबको उस करंट का अनुभव होने लगा,,,,

    जवाब देंहटाएं
  57. Mere sath bhi aisa hota hai mai apne dosto se batata hu to majak bana lete hai plees koi upay

    जवाब देंहटाएं
  58. मेरा नाम राजू है मुझे दिन मे पांच से छ: करन्ट लगता है और तो कभी कभी दुसरे को भी लगता है मै क्या करू

    जवाब देंहटाएं
  59. Sir ye problem Kuch time se mere 5 sal K bete ko bhi hai wo agar humko chuta hai ya pyar karta hai to kabhi kabhi bijali se halke chatke aate hai or ye mere hi nahi wo Jisk sath khelata hai kabhi kabhi unko bhi hota hai Mai Kya karu...

    जवाब देंहटाएं
  60. ताँबा चाँदी सोना बराबर मात्रा व बराबर लंबाई के तारों को एक साथ मिला कर छल्ला बना ले लेकिन ध्यान रहे उनके सिरे अापस मे नही मिलने चाहिए इससे आपको अवश्य फायदा होगा

    जवाब देंहटाएं
  61. बेनामी3/09/2018 9:16 pm

    Body me positive electron ka matra jada hone par aisa hota h.... Dry mat raha kijiye

    जवाब देंहटाएं
  62. Mujhe b current lag rah hai , kya kru, kaun se dr. Se check krau?

    जवाब देंहटाएं
  63. Mujhe b current lag rah hai , kya kru, kaun se dr. Se check krau?

    जवाब देंहटाएं
  64. Mere sath bhi aisa hota hai mai apne dosto se batata hu to majak bana lete hai please koi upay batao

    जवाब देंहटाएं
  65. बेनामी4/20/2018 12:43 am

    Mere sath ye abhi pehli bar hua is se pehle mujhe kbhi aisa shock nhi lga pehli bar mujhe car k door ko kholte samay lga pr shayd ye koi technical problm haiye sonch k meine ignore kr diya pr ye mere sath ek din me teen bar hua jb mujhe iron ki rod chune pe current lga ho

    जवाब देंहटाएं
  66. मानसिक शक्ति के विचारीय घमासान की वजह से ऐसा होता है मेरे साथ भी ऐसा ही हो रहा था पिछले एक सप्ताह से, यह गलत नहीं है अच्छा है क्योंकि हमारे चक्र जाग्रत हो रहे है अन्तर इतना है कि विचारीय घमासान की वजह से एनजीँ बहाव बाहर की तरफ है न्यूरोबिक स्पा के अभ्यास से यह बहाव अन्दर की तरफ हो जाता है और इससे जीवन आनंदमय किया जा सकता है

    जवाब देंहटाएं
  67. Last 6 months: jyada der chair ya or kahi per baith rahta hu fir kisi iron wali cheez ko touch karta hu to halka current lagta h ,fir bubara krta hu to ni lagta h
    Or ye sirf din me hi hota hai
    Static charge jyada h meri body me

    जवाब देंहटाएं
वैज्ञानिक चेतना को समर्पित इस यज्ञ में आपकी आहुति (टिप्पणी) के लिए अग्रिम धन्यवाद। आशा है आपका यह स्नेहभाव सदैव बना रहेगा।

नाम

अंतरिक्ष युद्ध,1,अंतर्राष्‍ट्रीय ब्‍लॉगर सम्‍मेलन,1,अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी ब्लॉगर सम्मेलन-2012,1,अतिथि लेखक,2,अन्‍तर्राष्‍ट्रीय सम्‍मेलन,1,आजीवन सदस्यता विजेता,1,आटिज्‍म,1,आदिम जनजाति,1,इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी,1,इग्‍नू,1,इच्छा मृत्यु,1,इलेक्ट्रानिकी आपके लिए,1,इलैक्ट्रिक करेंट,1,ईको फ्रैंडली पटाखे,1,एंटी वेनम,2,एक्सोलोटल लार्वा,1,एड्स अनुदान,1,एड्स का खेल,1,एन सी एस टी सी,1,कवक,1,किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज,1,कृत्रिम मांस,1,कृत्रिम वर्षा,1,कैलाश वाजपेयी,1,कोबरा,1,कौमार्य की चाहत,1,क्‍लाउड सीडिंग,1,क्षेत्रीय भाषाओं में विज्ञान कथा लेखन,9,खगोल विज्ञान,2,खाद्य पदार्थों की तासीर,1,खाप पंचायत,1,गुफा मानव,1,ग्रीन हाउस गैस,1,चित्र पहेली,201,चीतल,1,चोलानाईकल,1,जन भागीदारी,4,जनसंख्‍या और खाद्यान्‍न समस्‍या,1,जहाँ डॉक्टर न हो,1,जादुई गणित,1,जितेन्‍द्र चौधरी जीतू,1,जी0 एम0 फ़सलें,1,जीवन की खोज,1,जेनेटिक फसलों के दुष्‍प्रभाव,1,जॉय एडम्सन,1,ज्योतिर्विज्ञान,1,ज्योतिष,1,ज्योतिष और विज्ञान,1,ठण्‍ड का आनंद,1,डॉ0 मनोज पटैरिया,1,तस्‍लीम विज्ञान गौरव सम्‍मान,1,द लिविंग फ्लेम,1,दकियानूसी सोच,1,दि इंटरप्रिटेशन ऑफ ड्रीम्स,1,दिल और दिमाग,1,दिव्य शक्ति,1,दुआ-तावीज,2,दैनिक जागरण,1,धुम्रपान निषेध,1,नई पहल,1,नारायण बारेठ,1,नारीवाद,3,निस्‍केयर,1,पटाखों से जलने पर क्‍या करें,1,पर्यावरण और हम,8,पीपुल्‍स समाचार,1,पुनर्जन्म,1,पृथ्‍वी दिवस,1,प्‍यार और मस्तिष्‍क,1,प्रकृति और हम,12,प्रदूषण,1,प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड,1,प्‍लांट हेल्‍थ क्‍लीनिक,1,प्लाज्मा,1,प्लेटलेटस,1,बचपन,1,बलात्‍कार और समाज,1,बाल साहित्‍य में नवलेखन,2,बाल सुरक्षा,1,बी0 प्रेमानन्‍द,5,बीबीसी,1,बैक्‍टीरिया,1,बॉडी स्कैनर,1,ब्रह्माण्‍ड में जीवन,1,ब्लॉग चर्चा,4,ब्‍लॉग्‍स इन मीडिया,1,भारत के महान वैज्ञानिक हरगोविंद खुराना,1,भारत डोगरा,1,भारत सरकार छात्रवृत्ति योजना,1,मंत्रों की अलौकिक शक्ति,1,मनु स्मृति,1,मनोज कुमार पाण्‍डेय,1,मलेरिया की औषधि,1,महाभारत,1,महामहिम राज्‍यपाल जी श्री राम नरेश यादव,1,महाविस्फोट,1,मानवजनित प्रदूषण,1,मिलावटी खून,1,मेरा पन्‍ना,1,युग दधीचि,1,यौन उत्पीड़न,1,यौन शिक्षा,1,यौन शोषण,1,रंगों की फुहार,1,रक्त,1,राष्ट्रीय पक्षी मोर,1,रूहानी ताकत,1,रेड-व्हाइट ब्लड सेल्स,1,लाइट हाउस,1,लोकार्पण समारोह,1,विज्ञान कथा,1,विज्ञान दिवस,2,विज्ञान संचार,1,विश्व एड्स दिवस,1,विषाणु,1,वैज्ञानिक मनोवृत्ति,1,शाकाहार/मांसाहार,1,शिवम मिश्र,1,संदीप,1,सगोत्र विवाह के फायदे,1,सत्य साईं बाबा,1,समगोत्री विवाह,1,समाचार पत्रों में ब्‍लॉगर सम्‍मेलन,1,समाज और हम,14,समुद्र मंथन,1,सर्प दंश,2,सर्प संसार,1,सर्वबाधा निवारण यंत्र,1,सर्वाधिक प्रदूशित शहर,1,सल्फाइड,1,सांप,1,सांप झाड़ने का मंत्र,1,साइंस ब्‍लॉगिंग कार्यशाला,10,साइक्लिंग का महत्‍व,1,सामाजिक चेतना,1,सुपर ह्यूमन,1,सुरक्षित दीपावली,1,सूत्रकृमि,1,सूर्य ग्रहण,1,स्‍कूल,1,स्टार वार,1,स्टीरॉयड,1,स्‍वाइन फ्लू,2,स्वास्थ्य चेतना,15,हठयोग,1,होलिका दहन,1,‍होली की मस्‍ती,1,Abhishap,4,abraham t kovoor,7,Agriculture,7,AISECT,11,Ank Vidhya,1,antibiotics,1,antivenom,3,apj,1,arshia science fiction,2,AS,26,ASDR,8,B. Premanand,6,Bal Kahani Lekhan Karyashala,1,Balsahitya men Navlekhan,2,Bharat Dogra,1,Bhoot Pret,7,Blogging,1,Bobs Award 2013,2,Books,56,Born Free,1,Bushra Alvera,1,Butterfly Fish,1,Chaetodon Auriga,1,Challenges,9,Chamatkar,1,Child Crisis,4,Children Science Fiction,1,CJ,1,current,1,D S Research Centre,1,DDM,4,dinesh-mishra,2,DM,6,Dr. Prashant Arya,1,dream analysis,1,Duwa taveez,1,Duwa-taveez,1,Earth,43,Earth Day,1,eco friendly crackers,1,Education,3,Electric Curent,1,electricfish,1,Elsa,1,Environment,31,Featured,5,flehmen response,1,Gansh Utsav,1,Government Scholarships,1,Great Indian Scientist Hargobind Khorana,1,Green House effect,1,Guest Article,5,Hast Rekha,1,Hathyog,1,Health,62,Health and Food,5,Health and Medicine,1,Healthy Foods,2,Hindi Vibhag,1,human,1,Human behavior,1,humancurrent,1,IBC,5,Indira Gandhi Rajbhasha Puraskar,1,International Bloggers Conference,5,Invention,9,Irfan Hyuman,1,ISRO,5,jacobson organ,1,Jadu Tona,3,Joy Adamson,1,julian assange,1,jyotirvigyan,1,Jyotish,11,Kaal Sarp Dosha Mantra,1,Kaal Sarp Yog Remady,1,Kranti Trivedi Smrati Diwas,1,lady wonder horse,1,Lal Kitab,1,Legends,13,life,2,Love at first site,1,Lucknow University,1,Magic Tricks,10,Magic Tricks in Hindi,10,magic-tricks,9,malaria mosquito,1,malaria prevention,1,man and electric,1,Manjit Singh Boparai,1,mansik bhram,1,media coverage,1,Meditation,1,Mental disease,1,MK,3,MMG,6,Moon,1,MS,3,mystery,1,Myth and Science,2,Nai Pahel,8,National Book Trust,3,Natural therapy,2,NCSTC,2,New Technology,10,NKG,72,Nobel Prize,7,Nuclear Energy,1,Nuclear Reactor,1,OPK,2,Opportunity,9,Otizm,1,paradise fish,1,personality development,1,PK,20,Plant health clinic,1,Power of Tantra-mantra,1,psychology of domestic violence,1,Punarjanm,1,Putra Prapti Mantra,1,Rajiv Gandhi Rashtriya Gyan Vigyan Puraskar,1,Report,9,Researches,2,RR,2,SBWG,3,SBWR,5,SBWS,3,Science and Technology,5,science blogging workshop,22,Science Blogs,1,Science Books,56,Science communication,20,Science Communication Through Blog Writing,7,Science Congress,1,Science Fiction,9,Science Fiction Articles,5,Science Fiction Books,5,Science Fiction Conference,8,Science Fiction Writing in Regional Languages,11,Science Times News and Views,2,science-books,1,science-puzzle,44,Scientific Awareness,5,Scientist,36,SCS,7,SD,4,secrets of octopus paul,1,sexual harassment,1,shirish-khare,4,SKS,11,SN,1,Social Challenge,1,Solar Eclipse,1,Steroid,1,Succesfull Treatment of Cancer,1,superpowers,1,Superstitions,49,Tantra-mantra,19,Tarak Bharti Prakashan,1,The interpretation of dreams,2,Tips,1,Tona Totka,3,tsaliim,9,Universe,27,Vigyan Prasar,32,Vishnu Prashad Chaturvedi,1,VPC,4,VS,6,Washikaran Mantra,1,Where There is No Doctor,1,wikileaks,1,Wildlife,12,zakir science fiction,1,
ltr
item
Scientific World: क्‍या मेरे शरीर में बिजली बन रही है?
क्‍या मेरे शरीर में बिजली बन रही है?
Scientific World
https://www.scientificworld.in/2009/04/blog-post.html
https://www.scientificworld.in/
https://www.scientificworld.in/
https://www.scientificworld.in/2009/04/blog-post.html
true
3850451451784414859
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy